सोमवार, 31 अक्तूबर 2011

एक बहुत ही जानदार शानदार दीपावली के मुशायरे के बाद आइये कुछ और ग़ज़लों कविताओं के साथ मनाई जाये बासी दीपावली । आज सुनते हैं श्री अशोक सलूजा अकेला जी और श्री वीरेंद्र जैन की ग़ज़लें ।

दीपावली का त्‍यौहार संपन्‍न हो गया । बीतना समय का कार्य है सो वो बीतता है । सब कुछ ठीक हो गया । इस बीच बहुत व्‍यस्‍तता रही । दीपावली के ठीक बाद एक कार्यक्रम होना था जिसकी जिम्‍मेदारी टीम पी सी लैब पर थी । कार्यक्रम भी ठीक प्रकार से हो गया । लेकिन हां ये हुआ कि कार्यक्रम की व्‍यस्‍तता में अंकित के साथ बैठना बहुत ज्‍यादा नहीं हो पाया । दीपावली का अपना आनंद होता है सो उसका आनंद लिया गया । अब छठ पर्व की तैयारी चल रही है । अस्‍त होते सूर्य की पूजा और उदित होते सूर्य की पूजा । अभी दीपावली का त्‍यौहार कार्तिक पूर्णिमा तक चलने वाला है क्‍योंकि छठ पूजा के बाद देव प्रबोधनी एकादशी तथा उसके बाद कार्तिक पूर्णिमा ये सब एक के बाद एक होने हैं । तो आइये कुछ और ग़ज़लों के साथ मनाते हैं बासी दीपावली ।

deepavali_lampदीप ग़ज़लों के जल उठे हर सू deepavali_lamp

दीप ग़ज़लों के जल उठे हर सू, हमारे मिसरा ए तरह को इस बार शायरों ने यही बना दिया है । इतनी जगमग करती हुई ग़ज़लें आईं कि लगा कि दीप ही दीप जल उठे हों । और आज सुनते हैं श्री अशोक सलूजा अकेला जी तथा श्री वीरेंद्र जैन  की ग़ज़लें ।

DSC_5765

( पंडित अभिषेक शर्मा सुपुत्र श्री बब्‍बल गुरू पीसी लैब में दीपावली की पूजा करवाते हुए । )

decoration_16     

img1ashok-saluja img1
अशोक सलूजा  'अकेला'

अपने बारे में कहने को कुछ नही , जो एहसास रखता हूँ उन्हें जैसा महसूस करता हूँ ,लिख कर समय काटता हूँ !बस..... आज आप के ब्लॉग पर पढ़ रहा था ...जैसा समझा ,वैसे ही लिख दिया । बस क्या कहूँ ...

deepavali_lamp

दीप खुशियों के जल उठे हर सू
इक लहर सी है अब उठे हर सू
हर तरफ हैं बज़ार में मेले
फूल खुशियों के हैं खिले हर सू
दुख सभी का मिटेगा सोच के ये  
सब गले आज मिल रहे हर सू
आँख से आंसू मैंने पोंछ दिए 
फूल ही फूल जब दिखे  हर सू

दीप जलते हैं ज्‍यों दिवाली में  
दिल में अब रौशनी भरे हर सू
जी लिया है बहुत अंधेरों में  
रौशनी की नदी बहे हर सू
जिंदगी जब हो  झूम के गाती
चुप "अकेला" ये क्‍यों फिरे  हर सू
  
वाह वाह वाह । अच्‍छी ग़ज़ल कही है पूरी की पूरी ग़ज़ल सकारात्‍मक सोच से भरी है । दीपावली का अर्थ ही सकारात्‍मक सोच को बढ़ाना है । श्री अकेला जी ने जिस प्रकार के शेर निकाले हैं वो दीपावली की मूल भावना को प्रतिबिम्बित कर रहे हैं । बधाई बधाई बधाई ।

decoration_16     

img1Veer11 img1

श्री वीरेंद्र जैन

मैं वीरेंद्र जैन वड़ोदरा में निवासरत हूँ एवं सिविल सर्विसेस के लिए प्रयत्न कर रहा हूँ , मैंने एक छोटी सी कोशिश की है ग़ज़ल लिखने की, मेरा पहला प्रयास है ,  आप सब अपना आशीर्वाद दें ।

deepavali_lamp

फूल महके जो प्यार के हर सू
दीप खुशियों के जल उठे हर सू
इश्क की जब हवा बहे हर सू
एक नई दुनिया तब दिखे हर सू

चाँद उतरा फलक से है शायद
उसकी आहट सुनाई दे हर सू
उसने कर ली दो बातें जो मुझसे
मेरे ही चर्चे हो रहे हर सू

बस गया है नज़र में तू ऐसे
तेरी सूरत दिखे मुझे हर सू
यूँ तो सब कुछ ही पाया है फिर भी
मुझको तेरी कमी खले हर सू

सब्ज़ बागों पे छाई वीरानी
रंग पतझड़ के ही दिखे हर सू
शाम के ढलते ही मेरे दिल में ,
मेले यादों के फिर लगे हर सू
दर्द और ग़म की इन्तहां है बस
बदली अब पीर की छंटे हर सू

वाह वाह वाह । उम्‍दा ग़ज़ल है । और मुझे लगता है कि ये जो श्री वीरेंद्र ने कहा है कि ये उनकी पहली ग़जल़ है ये उन्‍होंने विनम्रता पूर्वक कहा है । परिचय तो नहीं है पर दावे से कह सकता हूं कि ये उनकी पहली ग़ज़ल नहीं है । जिस प्रकार से दीर्घ और लघु का संतुलन दूसरे रुक्‍न में बनाया है उससे तो यही पता चलता है । और चांद उतरा फलक से है शायद जैसे शेर पहली बार में नहीं कहे जा सकते । बस गया है नज़र में तू या फिर उसने कर ली दो बातें जैसे शेर तो यही कह रहे हैं । बधाई बधाई बधाई ।

DSC_5791

तो आनंद लीजिये बासी दीपावली का । और आनंद लीजिये इन ग़ज़लों का । ये ग़ज़लें जो दीपपर्व की स्‍मृतियों को फिर से उभार रही हैं । दाद देते रहिये और आनंद लेते रहिये ।

15 टिप्‍पणियां:

  1. मैने तो दोनो शायरों को पहली बार पढा है और दोनो के आखिरी शेर मे अटक कर रह गयी एक मे खुशियाँ दूसरे मे उदासी यही तो ज़िन्दगी है। दोनो की गज़लें बहुत अच्छी लगी। बधाई और शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अशोक जी और वीरेंद्र जी को खूबसूरत गज़लों के लिए बहुत बधाई..बहुत खूब शेर कहे हैं.
    अशोक जी के "दीप जलते हैं ज्यों दीवाली में,दिल में अब रौशनी भरे हर सू." और "जी लिया है बहुत अंधेरों में.." खास तौर पर पसंद आये.

    वीरेंद्र जी के अनुसार ये उनकी पहली कोशिश है लेकिन लगता नहीं है की पहली बार गज़ल कह रहे हैं..बहुत उम्दा शेर कहे हैं."चाँद उतरा फलक से है शायद..", "बस गया है नज़र में तू ऐसे.", "यूं तो सब कुछ ही पाया है फिर भी..". "सब्ज बागों पे छाई वीरानी.." बहुत पसंद आये.
    दोनों शायरों को हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्‍वागत है अशोक जी और वीरेंद्र जी का और उनकी अभिव्यक्‍तियों का।
    अशोक जी केवल मेरे हमउम्र ही नहीं जीवंत भी लग रहे हैं, भोपाल के हों तो कभी महफि़ल जमाते हैं।
    दोनों ग़ज़लें सुंदर अभिव्‍यक्ति हैं जहॉं अशोक जी की ग़ज़ल में सीधी सादी बात सीधे सादे तरीके से कही गयी है वहीं वीरेन्‍द्र की ग़ज़ल उनकी आयु की भावनाओं का प्रतिनिधित्व करती है।
    दोनों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुबीर जी ,नमस्कार !
    मैंने जो भी अपने बारे में आप को लिखा ,वो ही सच है ! सिर्फ एहसास महसूस कर सकता हूँ,और वैसे ही लिख कर समय काटता हूँ | मैंने जो भी लिखा, उसमे आपने सजा-सवांर कर उसको गज़ल बना दिया यह आप का बडप्पन है | बहरहाल आप का अपने ब्लॉग पर स्नेह,मान सम्मान पा कर बहुत अच्छा लगा|आप सब को पढ़ कर कुछ सीखने की कोशिश करता रहूँगा |
    सम्मान के लिए -
    आभार -आप सब को !

    उत्तर देंहटाएं
  5. अशोक जी और वीरेंद्र जी का स्वागत है इस मंच पर ...
    अशोक जी से ब्लॉग जगत के जरिये ही कुछ आत्मिक सम्बन्ध हैं ... और अब तो इस छात्रावास के सम्बन्ध भी बन गए ... सच है की दिवाली एक आशावादी और सकारात्मक सोच का त्यौहार है और अशोक जी की पूरी गज़ल इसी सोच को ले कर है ... हर तरफ हैं बाजार में मेले ... या फिर ... दीप जलते हैं ज्यों दिवाली में ... बहुत ही कमाल के शेर बने हैं ...
    वीरेंद्र जी एक मंझे हुवे विनम्र शायर की तरह आए हैं ... और कमाल के शेर कह गए ... बस गया है नज़र में तू ऐसे ... यूँ तो सब कुछ ही पाया ... बहुत ही सादगी भरे प्रेम की कल्पना लिए है ... और चाँद उतरा फलक से है शायद ... ये तो कमाल ही है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. दोनों ही रचनाकारों ने अच्छे अश’आर कहे हैं। अशोक जी को बहुत बहुत बधाई इन अश’आरों के लिए।
    वीरेंद्र जी की ये पहली ग़ज़ल तो नहीं होगी। बड़े ही शानदार अश’आर कहे हैं उन्होंने और अगर सच में ही ये पहली ग़ज़ल है तब तो आगे ये पता नहीं क्या करेंगे। बधाई वीरेंद्र जी को

    उत्तर देंहटाएं
  7. अब सात गुणा सात वाली ग़ज़ल का इंतजार है। उसके बाद ही मुशायरा खत्म माना जाएगा

    उत्तर देंहटाएं
  8. गुरूवर,

    दीपावली की व्यस्तता कुछ ऐसी रही कि बासी दीवाली के बाद भी कुछ पोस्टें ताजा रह गयीं मेरे लिए।

    आज उन सभी ताजी पोस्टों को पढ़ना है....

    प्रस्तुत पोस्ट में आपका ख्याल बिल्कुल सही लगा मुझे भी कि वीरेन्द्र जी कि यह पहली गज़ल तो नही लगी लेकिन यदि ऐसा है तो.....भविष्य का एक अच्छा गज़लगो आज अवतरित हुआ है इस मंच पर।

    सब्ज बागों पे छाई वीरानी
    रंग पतझड़ के ही दिखे हर सू

    बहुत अच्छा लगा यह शे’र...

    अशोक सलूजा साहब का यह संदेश सबःई तक पहुँचे इसी कामना के साथ :-

    दुःख सभी का मिटेगा सोच के ये
    सब गले आज मिल रहे हर सू

    इन्शाल्लाह.....

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रणाम गुरुदेव ,
    आपने मुझे इतना मान दिया , इसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद | आपने अपने ब्लॉग पर मुझे स्थान दिया , मैं स्वयं को धन्य समझता हूँ | आप लोगों के सानिध्य में ग़ज़ल सीखने के लिए प्रयासरत हूँ | आप सभी का बहुत बहुत शुक्रिया ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. श्री अशोक सलूजा जी एवं श्री वीरेन्द्र जैन जी ने जिस प्रकार तरही मुशायरे को विस्तार दिया है वो काबिले तारिफ है.

    आँख से आंसू मैंने पोंछ दिए
    फूल ही फूल जब दिखे हर सू.... ये शेर लंबे अनुभव की दास्ताँ है.
    ‍‍--
    बस गया है नज़र में तू ऐसे
    तेरी सूरत दिखे मुझे हर सू
    यूँ तो सब कुछ ही पाया है फिर भी
    मुझको तेरी कमी खले हर सू

    जी बिल्कुल ए॓सा ही होता है. वीरेन्द्र जी ने बड़ी खुबसूरती से बयाँ किया है.

    बहुत बहुत बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  11. अशोक जी,
    दीपावली पर विशेष तौर पर लिखी गई पूरी ग़ज़ल खूब पसंद आई

    इस सुन्दर ग़ज़ल के लिए आपको हार्दिक बधाई
    ये दो शेर तो खास पसंद आये

    दीप खुशियों के जल उठे हर सू
    इक लहर सी है अब उठे हर सू

    जिंदगी जब हो झूम के गाती
    चुप "अकेला" ये क्‍यों फिरे हर सू

    उत्तर देंहटाएं
  12. अशोक जी,
    दीपावली पर विशेष तौर पर लिखी गई पूरी ग़ज़ल खूब पसंद आई

    इस सुन्दर ग़ज़ल के लिए आपको हार्दिक बधाई
    ये दो शेर तो खास पसंद आये

    दीप खुशियों के जल उठे हर सू
    इक लहर सी है अब उठे हर सू

    जिंदगी जब हो झूम के गाती
    चुप "अकेला" ये क्‍यों फिरे हर सू

    उत्तर देंहटाएं
  13. वीरेंद्र जैन जी,

    आपकी रचनाएँ पहले भी पढ़ने का सुअवसर प्राप्त हुआ है

    आपमें ख्यालों की पुख्तगी तो है ही अब आपकी रचनाओं में शिल्प का कसाव भी विशेष आकर्षित कर रहा है

    गज़ल खूब पसंद आई
    हर शेर लाजवाब,,

    पहली ग़ज़ल में ये तेवर हैं तो कुछ दिन बाद क्या होगा,,, :)

    कोई शेर कोट नहीं कर रहा हूँ क्योकि हर शेर पसंद आया है

    उत्तर देंहटाएं
  14. अशोक जी और वीरेंदर जी की ग़ज़लें पढ़ कर बहुत अच्छा लगा...अशोक जी की ग़ज़ल सकारात्मक सोच से भरी हुई है और बेहतरीन शेरों से सजी हुई है...वीरेंदर जी ने अपने कलाम से चौंका सा दिया है...इस उम्र में ऐसे अशआर...वो भी पहली ग़ज़ल में...सुभान अल्लाह...क्या बात है...इन दोनों शायरों को मेरी दिली दाद पहुंचा दें...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  15. दोनों ही शायरों को पहली बार पढ़ रहा हूँ.
    अशोक 'अकेला ' जी का ये शेर, "आँख से आंसू मैंने ..................", अच्छा बना है. बधाई स्वीकारें.
    वीरेंद्र जी हुस्न-ए-मतला बहुत ही खूब कहा है. "चाँद उतरा फ़लक से...", अच्छा शेर कहा है. खूबसूरत ग़ज़ल के लिए मुबारकबाद.
    उम्मीद है कि दोनों शायरों को आगे भी पढने का मौका मिलता रहेगा.

    उत्तर देंहटाएं