सोमवार, 12 नवंबर 2007

बहुत दिनों के बाद चलिये अब फिर से शुरू करते हैं अपनी ग़ज़ल की क्‍लास को कुछ विघ्‍न आ गए थे और फिर त्‍यौहारों का मौसम भी आ गया था

संभवत: हमने जहां पर छोड़ा था वो था रुक्‍न और उस में भी हम चौकल तक का काम पूरा कर ही चुके थे । अब बारी आती है पंचकल की पंचकल माने कि वो रुक्‍न जिसमें पांच मात्राएं हों ये सबसे ज्‍यादा आने वाल रुक्‍न है । इसकी कुल मिलाकर आठ सूरतें होती हैं ।

1 : पांच लघु मात्राएं और पांचों ही अपने आप में स्‍वतंत्र हों जैसे मफउलुन इसके उदाहरण कम ही मिलते हैं एक साथ पांच लघु मात्राएं आ जाना ये संयोग कम होता है । 11111

2 : तीन लघु मात्राएं और एक गुरू मात्रा । या फिर पांचों ही लघु मात्राएं जिसमें से पहली तीन स्‍वतंत्र हों और बाद की दो संयुक्‍त होकर एक लघु हो रही हों । मफउलू  1112  या ( 111,11) लाल रंग के लघु मिलकर दीर्घ हो रहे हैं जबकि काले स्‍वतंत्र हैं ।

3 : दो लघु एक गुरू फिर एक लघु मात्रा या फिर पांच लघु मात्राएं शुरू की दो स्‍वतंत्र बीच की दो संयुक्‍त और आखिर की एक स्‍वतंत्र । फएलातु 1121 या फिर (11,11,1) लाल रंग के लघु मिलकर दीर्घ हो रहे हैं जबकि काले स्‍वतंत्र हैं ।

4: एक लघु एक गुरू और फिर दो लघु या फिर पांच लघु पहला स्‍वतंत्र दूसरा और तीसरा संयुक्‍त चौथ और पांचवां फिर स्‍वतंत्र ।  मफाएलु 1211 या फिर (1,11,11) लाल रंग के लघु मिलकर दीर्घ हो रहे हैं जबकि काले स्‍वतंत्र हैं ।

5:  एक लघु और दो गुरू या फिर पांच लघु मात्राएं जिसमें से पहली ऐ स्‍वतंत्र हो और बाद में दूसरी और तीसरी संयुक्‍त हो तथा चौथी और पांचवी भी संयुक्‍त हो । फऊलुन 122 या फिर  (1,11,11) लाल रंग के लघु मिलकर दीर्घ हो रहे हैं जबकि काले स्‍वतंत्र हैं ।

6:  एक गुरू और तीन लघु या फिर पांच लघु जिसमें से पहली और दूसरी संयुक्‍त हो और बाकी की तीन स्‍वतंत्र हों  । फाएलतु 2111 या फि र (11,111) लाल रंग के लघु मिलकर दीर्घ हो रहे हैं जबकि काले स्‍वतंत्र हैं ।

7: एक गुरू एक लघु और फिर एक गुरू या फिर पांच लघु मात्राएं जिसमें से पहली और दूसरी संयुक्‍त हो तीसरी स्‍वतंत्र हो और चौथी और पांचवी पुन: संयंक्‍त हो । फाएलुन 212 या फिर ( 11,1,11) लाल रंग के लघु मिलकर दीर्घ हो रहे हैं जबकि काले स्‍वतंत्र हैं ।

8: दो गुरू और एक लघु या फिर पांचों लघु हों पहली और दूसरी संयुक्‍त हो तीसरी और चौथी संयुक्‍त हो और पांचवी स्‍वतंत्र हो । मफऊलु 221 या फिर ( 11, 11,1) लाल रंग के लघु मिलकर दीर्घ हो रहे हैं जबकि काले स्‍वतंत्र हैं ।

आज उदाहरण नहीं दिये जा रहे हैं इस उम्‍मीद पर कि छात्र गण ही सारे रुक्‍नों के उदाहरण छांटने का प्रयास करेंगें और नहीं मिल पाए तो कल तो फिर बताए ही जाऐंगें

एक उदाहरण दिया जा रहा है मफऊलु को

1 दो गुरू और एक लघु  ' जाना न'

2 पांच लघु  ' हम तुम न '

1 टिप्पणी:

  1. यस सर,

    आपको दीवाली की अनेक शुभकामनाएँ। एक ग़ज़ल का मतला बना था दिवाली वाले दिन नीचे लिख रहा हूँ,

    बनते हैं दिए जिन हाथों से वो हाथ मनाएँ दीवाली,
    जलते हैं निरंतर खेतों में वो साथ मनाएँ दीवाली,

    पंचकल के कुछ शाब्दिक उदाहरण जैसेः मसरूफियत, लड़खड़ाना, मुस्कुराहटें आदि हो सकते हैं, अभी कोई शेर याद नहीं आ रहा है जिसमें पंचकल का प्रयोग किया गया हो।

    उत्तर देंहटाएं