सोमवार, 10 अक्तूबर 2016

"शिवना साहित्यिकी" का अक्टूबर-दिसम्बर अंक

शिवना प्रकाशन की त्रैमासिक पत्रिका "शिवना साहित्यिकी" का अक्टूबर-दिसम्बर अंक अब ऑनलाइन उपलब्‍ध है। अंक में शामिल हैं
आवरण कविता तथा अवरण चित्र / पल्लवी त्रिवेदी Pallavi Trivedi , संपादकीय Shaharyar , व्यंग्य चित्र / काजल कुमार Kajal Kumar , शख़्सियत (मलका नसीम) डॉ. विजय बहादुर सिंह Vijay Bahadur Singh , कविताएँ - कुछ नज़्में / राजेश मिश्रा @raj , दो कविताएँ / रोज़लीन , कहानी- सेंसलेस / महेश शर्मा Mahesh Sharma , आलोचना- राकेश बिहारी (तरुण भटनागर Tarun Bhatnagar की कहानी पर एकाग्र) , फिल्म समीक्षा के बहाने - पिंक / वीरेन्द्र जैन Virendra Jain , डायरी- कृष्णा अग्निहोत्री Krishna Agnihotri , ग़ज़ल - इस्मत ज़ैदी Ismat Zaidi Shifa ‘शिफ़ा’, ख़बर-कथा - हेलो कौन भावना दीदी / समीर यादव Sameer Yadav , पेपर से पर्दे तक... / कृष्णकांत पंड्या Krishna Kant Pandya , समीक्षा- पाँच विधाएँ - पंच कन्याएँ ( Neelesh Raghuwanshi, Pragya Rohini, Pallavi Trivedi, Joyshree Roy, angha joglekar) सौरभ पाण्डेय Saurabh Pandey / निकला न दिग्विजय को सिकंदर Zaheer Qureshi , दिविक रमेश Divik Ramesh / शुक्रगुज़ार हूँ दिल्ली Santosh Shreyaans , अमृतलाल मदान Amrit Lal Madan / छुअन Nijhawan Vikesh तथा अन्य कहानियाँ , महेश कटारे Mahesh Katare / उत्तरायण @sudershan Priydarshini , पड़ताल- बाल-रंगमंच : सम्भावनाएँ और चुनौतियाँ / डॉ. प्रज्ञा Pragya Rohini, डिज़ाइन Sunny Goswami
संरक्षक तथा प्रधान संपादक Sudha Om Dhingra, प्रबंध संपादक Neeraj Goswamy, संपादक Pankaj Subeer, सह संपादक Parul Singh, कार्यकारी संपादक Shaharyar
प्रिंट कॉपी भी शीघ्र ही आपके हाथों में होगी ।
डाउनलोड लिंक

1 टिप्पणी:

  1. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल बुधवार (12-10-2016) के चर्चा मंच "विजयादशमी की बधायी हो" (चर्चा अंक-2492) पर भी होगी!
    विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं