सोमवार, 10 अप्रैल 2017

शिवना साहित्यिकी का अप्रैल-जून 2017 अंक अब ऑनलाइन उपलब्धl है।

मित्रों, संरक्षक तथा सलाहकार संपादक सुधा ओम ढींगरा Sudha Om Dhingra, प्रबंध संपादक नीरज गोस्वामी Neeraj Goswamy , संपादक पंकज सुबीर Pankaj Subeer , कार्यकारी संपादक- शहरयार Shaharyar तथा सह संपादक पारुल सिंह Parul Singh के संपादन में शिवना साहित्यिकी का अप्रैल-जून 2017 अंक अब ऑनलाइन उपलब्धl है। इस अंक में शामिल है संपादकीय, शहरयार। व्यंग्य चित्र -काजल कुमार Kajal Kumar । कविताएँ- तनवीर अंजुम Tanveer Anjum , वंदना मिश्र , जया जादवानी Jaya Jadwani । शख़्सियत - होता है शबोरोज़ तमाशा मिरे आगे, सुशील सिद्धार्थ Sushil Siddharth । कहानी- नीला.....नहीं शीला आकाश, अमिय बिन्दु Amiya Bindu । फिल्म समीक्षा के बहाने- जौली एलएलबी, वीरेन्द्र जैन Virendra Jain। आवरण चित्र के बारे में....- गेंद वाला फोटो / पल्लवी त्रिवेदी Pallavi Trivedi । ख़बर कथा एक थी सोफिया और बिखरे सपने , ब्रजेश राजपूत Brajesh Rajput । पुस्तक-आलोचना- उजली मुस्कुराहटों के बीच / डॉ. शिवानी गुप्ता विमलेश त्रिपाठी । पुस्तकें इन दिनों.... - छल / अचला नागर Achala Nagar , पकी जेठ का गुलमोहर / भगवान दास मोरवाल भगवानदास मोरवाल , भ्रष्टाचार के सैनिक / प्रेम जनमेजय । कथा-एकाग्र- शकील अहमद। समीक्षा- डॉ. सुशील त्रिवेदी / जलतरंग, माधुरी छेड़ा / गीली मिट्टी के रूपाकार। एक कहानी, एक पत्र.... Prem Bhardwaj सुधा ओम ढींगरा। पड़ताल नया मीडिया : नया विश्व, नया परिवेश, डॉ. राकेश कुमार Rakesh Kumar । तरही मुशायरा ( Nusrat MehdiRajni Malhotra Nayyar Rakesh Khandelwal Bhuwan Nistej Nirmal Sidhu धर्मेन्द्र कुमार सिंह Digamber Naswa @gurpreet singh @nakul gautam Dwijendra Dwij Girish Pankaj @anshul tiwari Pawan Kumar Ias Neeraj Goswamy Tilak Raj Kapoor @anita tahzeeb @ Saurabh Pandey Parul Singh @mustafa mahir Ashwini Ramesh Mansoor Ali Hashmi Pankaj Subeer @sudheer tyagi Madhu Bhushan Sharma । आवरण चित्र- पल्लवी त्रिवेदी Pallavi Trivedi - डिज़ायनिंग-सनी गोस्वामी Sunny Goswami
आपकी प्रतिक्रियाओं का संपादक मंडल को इंतज़ार रहेगा। पत्रिका का प्रिंट संस्करण भी समय पर आपके हाथों में होगा।
ऑन लाइन पढ़ें

https://www.slideshare.net/shivnaprakashan/shivna-sahityiki-april-june-2017-for-web
 https://issuu.com/shivnaprakashan/docs/shivna_sahityiki_april_june_2017_fo

1 टिप्पणी:

  1. शिवना साहित्यकी का अप्रैल- जून अंक आने की बधाई,,, क्या ही शानदार तस्वीर है कवर पर,,,,
    तनवीर अंजुम जी की कविताएं पढ़ीं,,, बहुत अच्छी लगीं,,,,,,,,

    उत्तर देंहटाएं