शनिवार, 8 दिसंबर 2012

एक दोपहर भोज, ज्‍वार की रोटी, पकोड़े की कढ़ी, हरी मिर्च की चटनी, नींबू के अचार, नींबू की मिर्ची, ताज़े अमरूदों और बहुत से आनंद के साथ ।

नीरज जी के सम्‍मान के लिये रचा गया कार्यक्रम वास्‍तव में एक आनंद का कार्यक्रम हो गया । आनंद जिसमें हर कोई सहभागी था । नीरज जी से सभी लोगों की पहली मुलाकात थी, किन्‍तु, गौतम के शब्‍दों में कहा जाये तो ऐसा लग ही नहीं रहा था । वैसे तो सीहोर इन दिनों भोपाल वालों के लिये संडे पिकनिक स्‍पाट हो चुका है । किन्‍तु हमने सोचा कि पिकनिक के लिये कहीं और जाने के बजाय घर के आंगन में ही आम, आंवले, हरसिंगार, चीकू, सीताफल और अमरूदों के पेड़ों के झुरमुट के नीचे चटाइयों पर जाड़े की गुनगुनी दोपहर में पिकनिक जमाई जाये । सो बस तुलसी के चौरे के आसपास जम गई भोजन की महफिल ।

DSCN0058

आंगन जिसको कुछ ही दिनों पूर्व संपन्‍न हुए त्‍यौहारों के कारण गोबर से लीपा गया था और गेरू खडि़या से जिस पर मांडने बनाये गये थे । उसी में पेडों के झुरमुट में चल रही है पिकनिक । एक एरियल व्‍यू ।

DSCN0092

उसी आंगन में लकड़ी कोयले का पोर्टेबल चूल्‍हा रखकर नानीजी के मार्गदर्शन में ज्‍वार की रोटी और पकोड़े की कढ़ी का आनंद अन्‍य सहयोगी वस्‍तुओं के साथ लिया गया । और तत्‍पश्‍चात पेड़ से ताज़ा तोड़े गये अमरूदों के साथ भोज का समापन हुआ । इस फोटो में नानीजी अपनी बेटी के बेटे की बेटी के साथ हैं ।

DSCN0074

ज्‍वार की गर्मा गर्म रोटियां सेंक कर देने का काम नानीजी की बेटीजी अर्थात माताजी ने संभाला । माताजी जिनको सारा घर मां कह कर बुलाता है । घर क्‍या पूरी कालोनी उनको मां कहती है ।

DSCN0108

अंकित के ताज़ा ताज़ा खरीदे गये कैमरे से पूरे कार्यक्रम की फोटो लेने का काम पंखुरी ने संभाला, ये सारी फोटो जो आप देख पा रहे हैं ये उसीके द्वारा ली गईं हैं । अच्‍छी लगें तो ठीक नहीं तो बुराई सुनना उसे पसंद नहीं है । आपकी मजबूरी है कि आपको प्रशंसा करनी ही होगी ।

DSCN0066

पंखुरी ने हमेशा की तरह आसान काम संभाला तो मुश्किल काम परी ने संभाला जो था पिकनिक के दौरान प्‍लेटों में भोजन की उचित मात्रा बनाये रखने का । यह काम उसने अपनी मम्‍मी और बड़ी मम्‍मी के मार्गदर्शन में संभाला । इस फोटो में भी वो अपनी ड्यूटी पर मुस्‍तैदी से तैनात है ।

DSCN0063

और इस प्रकार से शुरू हुआ ये दोपहर भोज जिसमें भांति भांति की देशज वस्‍तुएं शामिल थीं । नींबू के रस में भीगी हुई मिर्चियों से लेकर ज्‍वार की रोटियों में शकर और घी मिलाकर नानी द्वारा बनाये गये चूरमे तक । नानी जो ऊपर चबूतरे पर बैठीं व्‍यवस्‍थाओं का निरीक्षण कर रही थीं । 

DSCN0064

ज्‍वार की रोटियों को बेलन और तवे पर नहीं सेंका जा सकता उनको हाथों से ही बनाना होता है क्‍योंकि मोटा आटा होने के कारण टूटता है । आपको पता है हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिये सबसे नुकसानदायक क्‍या है, गेहूं । इसलिये कि उसका आटा चिपचिपा होता है ।

DSCN0065

और गोला बन गया । गोला जिसमें शामिल हैं नीरज जी अंकित, गौतम, सुलभ, सनी, सुधीर और एक किसी की चांद भी नजर आ रही है पीछे से ।

DSCN0073

इधर से ज्‍वार की रोटियों की सप्‍लाई का काम शुरू हो चुका था । ज्‍वार की रोटियों के लिये आटा भी तुरंत गूंथा जाता है । पहले से गूंथ कर रखने की आवश्‍यकता नहीं होती है । इन रोटियों पर लगाया जा रहा है घर का बना ताज़ा शुद्ध घी ।

DSCN0071

इस समय सब पूरी तन्‍मयता के साथ अपने अपने प्‍लेटों पर कन्‍सन्‍ट्रेट कर रहे हैं । बाकी दुनिया से पूरी तरह से बेखबर होकर । कर्नल साहब नींबू की मिर्ची पर दुश्‍मनों की फौज की तरह अपना गुस्‍सा निकाल रहे हैं ।

DSCN0081

शायर साहब मुंह में कौर ले जा रहे हो या किसी के द्वारा दी गई दाद पर शुक्रिया दे रहे हो । पास में जो देश के महत्‍वपूर्ण शायर हरी टी शर्ट में बैठे हैं उनके सफेद बाल पंखुरी ने बड़ी मेहनत से फोटो में उभारे हैं ।

DSCN0088

मिला जो वक्‍त तो जुल्‍फें तेरी सुलझा दूंगा, अभी उलझा हूं मैं हालात को सुलझाने में । नीरज जी की तन्‍मयता यही बता रही है कि प्‍लीज डोंट डिस्‍टर्ब ।

DSCN0070 

खाते खाते अचानक फोटोग्राफर ने एक पोज़ देने को कहा सो कौर को थाली में छोड़ कर पोज देने लगे नीरज जी ।

DSCN0067

भोजन सप्‍लाई व्‍यवस्‍था को सुचारू बनाये रखने वाला पक्ष । जिसमें उतने ही लोग लगे हैं जितने खाने वाले हैं ।

DSCN0078

इस्‍माइल प्‍लीज । खाने के बीच बीच में पोज देने का काम करना कितना मुश्किल होता है लेकिन करना है तो करना है मंखा सरदार का आदेश है ।

DSCN0097

शायर अंकित सफर अपना आधा मिसरा किसी अन्‍य को दे रहे हैं । पूरा शेर उनके बस का नहीं रहा तो ऐसा करना पड़ा । आप ये मत पूछिये कि इस संडे की पिकनिक में श्री सफर इतना सज धज के नहा धो कर क्‍यों बैठे हैं ।

DSCN0088

नींबू के अचार पर शायर साहब का दिल आ गया है । उनका कौर बार बार उसी तरफ बढ़ रहा है । नींबू का अचार चीज़ ही ऐसी है कि जो खाये वो ही जाने उसका स्‍वाद ।

DSCN0089

कर्नल साहब, पास बैठ सुधीर को ये समझाने की कोशिश कर रहे हैं कि ज्‍वार की रोटी बहरे हजज मुसमन पर थी । सुधीर वाला समझने की कोशिश कर रहा है कि कर्नल साहब किस भाषा में बात कर रहे हैं ।

DSCN0068

परसइया ( भोजन परसने वाला) पीछे किसी सैनिक की तरह मुस्‍तैद खड़ा है ।

DSCN0093

कर्नल साहब की आंखें फोटो खिंचवाते समय बंद हो जाती हैं तो उसमें उनका क्‍या कसूर । होता है होता है । दुनिया की शर्म से गुनाहगारों की आंखें झपक न जाएंगी तो क्‍या होगा ।

DSCN0096

रोटियों का काम तमाम हो चुका है अब प्‍लेट में रखी हुई कढ़ी की बारी है ।

DSCN0101

है कोई और एक रोटी लेने वाला या फिर इस रोटी का चूरमा बनवा दिया जाये । लोग धीरे धीरे अपनी प्‍लेटों को समापन की ओर बढ़ाने में जुटे हैं । और इधर कम खाने वालों के बीच फंस गया खाने का शौकीन सनी कम खाने वालों के साथ बैठ कर पछता रहा है ।

DSCN0069

ये ज्‍वार की रोटी और शुद्ध घी का बनाया हुआ चूरमे का लड्डू है जिसे अभी अभी चबूतरे पर बैठी नानीजी ने बना कर दिया है ।

DSCN0100

बम भोले, हो गया भोजन अब पानी की बारी है ।

DSCN0103 

हो चुका भोजन आइये अब उठते हैं ।

DSCN0111

अब भोजन करवाने वालों के भोजन की बारी है । फोटो में चार पीढि़यां दिख रही हैं । चबूतरे पर नानीजी, उनकी बेटी, उनकी बहुएं और उन बहुओं की बेटियां । ये जो ढेर सारी मूलियां सामने रखे खाना खा रही हैं ये हमारी धर्मपत्‍नी हैं । चम्‍मच से कुछ खाने के प्रयास में लगीं हमारी भाभीजी हैं ।

DSCN0105

फोटोग्राफर का शुक्रिया अदा किया जाये जिसने भोजन के कार्यक्रम के शानदार फोटो लिये ।

DSCN0107

एक और फोटो फोटोग्राफर के साथ ।

DSCN0106

और ये फोटो आनंदमय ।

DSCN0115

आइये सुलभ भैया मैं आपको मगही पान खिला कर लाती हूं ।

DSCN0120

एक और पोज हो जाये ।

DSCN0118

आइये सामूहिक पोज के साथ आज के आनंद को पूरा करते हैं । जय हो, जय हो ।

29 टिप्‍पणियां:

  1. अविस्मरनीय अनुभव। ऐसा अनुभव जिसे "ये दिल मांगे मोर" . नानीजी की चुटीली बातें, धर्म और रूढ़ियों के प्रति उनके आधुनिक और प्रगतिशील विचार, नर्मदा और गाँव के रोचक किस्से मन करता है सुनते ही चले जाएँ। इस उम्र में भी ज़िन्दगी का भरपूर आनंद लेने वाली नानी किसी के लिए भी प्रेरणा का स्त्रोत्र हो सकती हैं। अम्मा का स्नेह, बहुओं द्वारा की गयी सेवा और बच्चों का दुलार किसी किस्मत वाले को ही नसीब होता है। आदरणीय गुरुदेव के माध्यम से जो मिला वो जीवन की अमूल्य धरोहर है। अद्भुत। मैं सबका आभारी हूँ नहीं कहूँगा क्यूंकि आभारी कहने से आत्मीयता में कमी आती है ये बहुत औपचारिक शब्द है इसलिए जहाँ औपचारिकता का नामो निशान ही नहीं था वहां इसका उपयोग उचित नहीं इसलिए मैं कहूँगा वहां जो मिला उस से गदगद हूँ।

    इस भोज का आनंद शब्दों में बयां करना असंभव है। " लुत्फ़-ए-मय तुझसे क्या कहूँ जाहिद : हाय कमबख्त तूने पी ही नहीं।"

    गुरुदेव हम तो सीहोर आ गए, अब आप खोपोली आयें सपरिवार तो बात बने।

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपसे मिल लेने के बाद खपोली आने को उत्‍सुक लोगों की संख्‍या काफी बढ़ गई है ।

      हटाएं
    2. नेकी और पूछ पूछ सभी का तहे दिल से स्वागत है...कोई आये तो.

      हटाएं
    3. जहाँ मंखा सरदार ने एक से बढ़ कर एक फोटो लिए वहीँ परी ने खाना इतने प्यार से खिलाया कि एक की जगह दो मोटी ज्वार की रोटी खा गया...(एक तो खाने में बला का स्वाद दूसरे अनवरत चलती पुरस्गारी अब ऐसे में मैं खाता नहीं तो क्या करता ?) आलम ये हुआ के अगले तीन दिनों तक भूख ही नहीं लगी. हमारे इतने फोटो तो फोटोग्राफर ने हमारी अपनी शादी पे भी नहीं खींचे थे. मंखा सरदार और परी की जय हो.

      हटाएं

    4. मैंने फुल कंसंट्रेशन के साथ हर कौर को कायदे से चबाया, पुरे साल भर के लिए विटामिन अ से ज तक सब सहेज लिया है। नीरज सर की जिन्दादिली का जवाव नहीं। अब अगले बरस खोपोली में रस पान करने का इरादा है।
      -
      सेनापति परी और सरदार मंखा, आपके दरबार को शत शत नमन। मैंने लौटते ही नानी जी कहानी बहनों को सुनाया। शायद इसे ही कहते हैं एक में दर्जन का मजा। लाजवाब फोटो,,,, यही है जीवन की मुस्कान ....

      हटाएं
  2. पंकज,बहुत सुन्‍दर फोटोज़ हैं। पंखुरी,परी को स्‍नेह और नानी और सभी बड़ो को सदर नमस्‍ते। अपनी दीदी को कैसे भूल गये पंकज। मेरे मुंह में तो पानी आ रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पंकज,बहुत सुन्‍दर फोटोज़ हैं। पंखुरी,परी को स्‍नेह और नानी और सभी बड़ो को सदर नमस्‍ते। अपनी दीदी को कैसे भूल गये पंकज। मेरे मुंह में तो पानी आ रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीते रहिये, किसी की नज़र न लगे! आज ब्लॉग में निर्मल आनंद की धारा बह रही है! मन भीतर तक भीग गया तस्वीरें देख कर! मंखा सरदार और मंडली को कितने दिनों बाद देखा :) बड़ों को प्रणाम और बच्चों को स्नेह! शुभाशीष, शार्दुला

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय पंकज सर ऐसा दृश्य देख कर तो मानो ऐसा प्रतीत हो रहा है की खाना सामने रखा है परन्तु उठा कर खा नहीं सकता हूँ, मुख मंडल में पानी ही पानी आदरणीय नीरज सर को हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  6. तस्वीरें तो बहुत अच्छी आई हैं। तस्वीरों से लग रहा है कि सभी ने दबा कर खाया है। नींबू की मिर्ची का तो स्वाद ही अलग होता है मुँह में पानी आ गया। :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. जब पूरा माहोल ही आनद से सरोबर हो तो हर चीज़ का मज़ा आता है ...
    तस्वीरें प्रत्यक्ष गवाह हैं .. लज़ीज़ खाने, खुशनुमा माहोल ओर कुनकती सर्दी का ... जो खा रहे हैं उनको ओर जो दिल मसोस के बैठे हैं फोटो देखने के बाद ... सभी को शुभकामनाएं ... महफ़िलें ऐसे ही सजती रहें ...

    उत्तर देंहटाएं

  8. Manisha Kulshreshtha ओह ये अवसर खो दिया, शायर होना था मुझे, नानी जी, माँ, परी, पंखुरी का साथ और फलदार पेड़ों के नीचे की ये गोठ किसी भी ज्ञानपीठ पुरस्कार पर भारी!
    A few seconds ago · Like

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मन दी आप होतीं तो सचमुच बहुत आनंद आता । खैर जब भी आपको भोपाल आना होगा तो सीहोर आना तो होगा ही । उस समय गोठ कर ली जायेगी !

      हटाएं
    2. जो लोग गोठ समझ नहीं पा रहे हों उनके लिये ये कि मालवा में और राजस्‍थान में भोजन के साथ की जाने वाली पिकनिक को 'गोठ' या गोट कहते हैं ।

      हटाएं
    3. गुरुदेव ये "गोठ" कहीं गोष्ठी से तो नहीं निकला है :)))

      हटाएं

  9. नमस्ते
    आहा ...आनंद आ गया ...
    आप, परिवार के सभी सदस्य
    आनंद मंगल मनाते रहें और आगामी वर्ष 2013 में
    आप अधिकाधिक यश व् अभिनव सृजन निर्माण में व्यस्त रहें
    ये मंगल कामनाएं भेज रही हूँ ...
    स ~ स्नेह आशिष ..
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  10. वो सारे स्वाद यक-ब-यक फिर से जवान हो गए कमबख़्त....!!!

    आह ! ये कालजयी पोस्ट रहेगी इस पोस्ट की, वर्षों वर्षों तक पलट कर आ दुबारा देखने के लिए, एक-एक स्वाद, एक-एक लम्हे को फिर फिर से जीए जाने के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  11. बैठकर यूँ प्यार से, भोजन खिलाना भा गया।

    उत्तर देंहटाएं
  12. दोपहर थी यार भी थे हम न थे तो क्या हुआ
    जानता हूँ एक लमहा यार मेरे नाम था.. . :-))

    इतने से ही संतोष करना क्या बुरा है !? इह-लोक में अलौकिक होना यही तो है. बार-बार मिस कर रहा हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  13. अभी फिर आया तो ध्यान गया है कि हेडर पर आपने जो ग्रुप फोटू लगाई है उसमें इनारे-किनारे के दोनों गबरू जवान किस मुहब्बत भरी नज़रों से एक दूसरे को निहार रहे हैं ....
    और इसे इत्तेफाक कहने को दिल नहीं करता की दोनों गबरुओं की कमीज सेम -टू- सेम है

    ;) ;) ;)

    उत्तर देंहटाएं
  14. हर बार ऐसी रिपोर्ट्स में ढूँढ़ती हूँ कि कोई तो आ कर कहे कि " तुम्हें मिस किया ?" और हम हैं कि इसी मुग़ालते में जान लगा देते हैं कि अगर नही पहुँची, तो...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अरे कंचन दी, क्या कहूँ मैं। आपकी चर्चाओं के बगैर इन चौपालों में कभी काव्य रस बंटता है क्या? सुख और दुःख दोनों साथ साथ चलते हैं और हमें इन्ही में आनन्द ढूँढना होता है।

      हटाएं
    2. उफ्फ्फ ये नाराजगी।
      हर बैठक जब जम रही थी तो आपका ही ज़िक्र आ रहा था कि अगर आप होती तो ये बातें और चटक भरी हो जाती, ये लम्हें कुछ और महक उठते।

      हटाएं
  15. दो दिन के अंतराल पर लौटा हूँ भोपाल तो यह पोस्‍ट ल्रीपाई,लेट हो गया।
    आत्‍मीयता ही शायद वह शब्‍द है जो बताता है कि पंकज भाई ही नहीं सारे परिवार में यही गुण है। मैं आदतन नये लोगों से कुछ समय में खुलता हूँ लेकिन आपके परिवार का हर सदस्‍य यूँ लगा जैसे घनिष्‍ट है। इस आत्‍मीयता से मिलन को मन हमेशा व्‍याकुल रहता है। दोपहर की महफिल तो मुझसे चूकी लेकिन रात्रि-भोज का आनेद कुछ कम नहीं था।
    नानी जी और माताजी के साथ गुजरे पल विशेष धरोहर रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  16. .
    मैं तो बस यहाँ पुणेमें बैठके हर तरही का इंतजार करता रहता हूं..
    ये संतसमागमभी काफी रोचक है !
    अच्छी तस्वीरें और अच्छा कथाकथन..

    "मिला जो वक्‍त तो जुल्‍फें तेरी सुलझा दूंगा, अभी उलझा हूं मैं हालात को सुलझाने में ।"

    ये बहुतही बढिया..

    उत्तर देंहटाएं
  17. लगता है आप सब ने इस कार्यक्रम और उसके बाद भोजन का बड़ा ही लुत्फ़ उठाया है, अफ़सोस हम वहां न पाये।

    उत्तर देंहटाएं
  18. हर तस्वीर अपने में एक मुकम्मल लम्हा है। पंखुरी ने उन सुनहरे लम्हों को इतने अच्छे से संजोया है कि आगे कभी भी अगर इन मिसरी से पलों से गुजरने का जी करेगा तो तुरंत यहाँ हाजिरी लगा दी जाएगी। सीहोर में हर बार कुछ न कुछ नए पकवान खाने को मिलते हैं और इस बार तो आनंद की चरमसीमा थी, ज्वार की रोटी और लड्डू ........अहा। लिख देने भर से फिर से खाने की तृप्ति जैसा कुछ लग रहा है।

    नीरज जी का साथ तो सोने पे सुहागा था। रात की बैठकी कमाल की रही, तीन कातिल और एक मासूम क़त्ल होने वाला।

    उत्तर देंहटाएं