मंगलवार, 4 दिसंबर 2012

‘‘हैं निगाहें बुलंदियों पे मेरी, क्या हुआ पांव गर ढलान पे है’’ नीरज गोस्वामी को शिवना प्रकाशन का ''सुकवि रमेश हठीला स्मृति शिवना सम्मान'' प्रदान किया गया

DSC_3776

हिंदी के सुप्रसिद्ध ग़ज़लकार नीरज गोस्वामी को एक गरिमामय साहित्यिक आयोजन में शिवना प्रकाशन द्वारा स्‍थापित वर्ष 2012 का ''सुकवि रमेश हठीला स्मृति शिवना सम्मान'' प्रदान किया गया । स्थानीय ब्ल्यू बर्ड स्कूल के सभागार में आयोजित कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के रूप में विधायक श्री रमेश सक्सेना उपस्थित थे । अध्यक्षता नगरपालिका अध्यक्ष श्री नरेश मेवाड़ा ने की । विशिष्ट अतिथि के रूप में नागरिक बैंक अध्यक्ष कैलाश अग्रवाल, हिंदी सुप्रसिद्ध कवि शशिकांत यादव एवं उर्दू के मशहूर शायर श्री इक़बाल मसूद उपस्थित थे ।

DSC_3777
DSC_3789

DSC_3796

कार्यक्रम के प्रारंभ में अतिथियों का स्वागत आयोजन समिति के अध्यक्ष प्रकाश व्यास काका ने बैज लगाकर तथा सदस्यों अनिल पालीवाल, हरिओम शर्मा दाऊ, उमेश शर्मा, जयंत शाह, शैलेश तिवारी, श्रवण मावई, सुनील भालेराव, चंद्रकांत दासवानी, बब्बल गुरू  ने पुष्पगुच्छ भेंट कर  किया ।

मुम्बई के कवि नीरज गोस्वामी को सुकवि रमेश हठीला शिवना सम्मान के तहत मंगल तिलक कर एवं शाल, श्रीफल, सम्मान पत्र भेंट कर सम्मानित किया गया ।

DSC_3827

DSC_3828

DSC_3829

DSC_3830

DSC_3831

श्री गोस्वामी का परिचय शिवना प्रकाशन के  पंकज सुबीर ने प्रस्तुत किया ।

DSC_3825

इस अवसर पर शिवना प्रकाशन की ओर से शहर की साहित्यिक संस्थाओं स्मृति के श्री अम्बादत्त भारतीय, बज़्मे फरोगे उर्दू अदब के तमकीन बहादुर, हिन्दू उत्सव समिति के सतीश राठौर, अंजुमने सूफियाए उर्दू अदब के अफ़ज़ाल पठान को साहित्यिक कार्यक्रमों के सफल आयोजन हेतु प्रशस्ति पत्र प्रदान किये गये ।

DSC_3836

DSC_3840

DSC_3841

DSC_3842

कार्यक्रम के दूसरे चरण में श्री इक़बाल मसूद की अध्यक्षता में एक मुशायरे का आयोजन किया गया जियमें देश भर के शायरों ने ग़ज़लें पढ़ीं ।

DSC_3802

नई दिल्ली के सुलभ जायसवाल ने मुशायरे का प्रारंभ करते हुए ‘बेसहारा मुल्क लेकर चीखता रहता हूं मैं’ ग़ज़ल पढ़कर श्रोताओं की दाद बटोरी ।

DSC_3808

मुम्बई के अंकित सफर ने युवाओं की भावनाओं को ‘बढ़ाने दोस्ती गालों पे कुछ पिम्पल निकल आये’ के माध्यम से बखूबी व्यक्त किया ।

DSC_3810

नई दिल्ली के प्रकाश अर्श ने ‘मैं लम्हा हूं कि अर्सा हूं कि मुद्दत न जाने क्या हूं बीता जा रहा हूं’ सहित कई शेर पढ़े ।

DSC_3848

काश्मीर के कर्नल गौतम राजरिशी ने अपने शानदार अंदाज़ में ‘चांद इधर छत पर आया है थक कर नीला नीला है’ जैसी शानदार ग़ज़लें पढ़कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया ।

DSC_3816

इन्दौर के शायर प्रदीप कांत ने ‘थोड़े अपने हिस्से हम बाकी उनके किस्से हम’ सहित छोटी बहर पर लिखी गई अपनी कई ग़ज़लें पढ़ीं।

DSC_3866

भोपाल के शायर तिलक राज कपूर ने 'जब उसे कांधा दिया दिल ने कहा' के माध्‍यम से श्रोताओं की संवेदनाओं को झकझोर दिया ।

DSC_3820

भोपाल के  डॉ सूर्या बाली ने अपनी ग़ज़ल ‘बाज़ार ने गरीबों को मारा है इन दिनों’ पढ़कर श्रोताओं की खूब दाद बटोरी ।

DSC_3854

सम्मानित कवि नीरज गोस्वामी की मुम्बइया शैली की ग़ज़लों को श्रोताओं ने खूब सराहा । ‘जिसको चाहे टपका दे, रब तो है इक डान भीडू’ तथा ‘क्या हुआ पांव गर ढलान पर है’  शेरों  को श्रोताओं ने खूब पसंद किया । उन्होंने तरन्नुम में भी कुछ ग़ज़लें पढ़ीं ।

DSC_3871

मुशायरे का संचालन कर रहे शायर डॉ आज़म ने अपनी ग़ज़ल ‘अजब हाल में महफिलें हैं अदब की’ पढ़ी ।

DSC_3877

हिंदी के सुप्रसिद्ध कवि शशिकांत यादव ने आपने चिरपरिचित अंदाज़ में ओज तथा देशभक्ति के गीत एवं छंद पढ़े । सैनिकों तथा राजनीतिज्ञों की तुलना करते हुए उन्होंने कविता का सस्वर पाठ किया ।

DSC_3884

मुशायरे की अध्यक्षता कर रहे इक़बाल मसूद ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि ये नयी पीढ़ी हिन्दी और उर्दू के बीच पुल बनाने का काम कर रही है । उन्होंने सभी शायरों की ग़ज़लों को सराहा । श्री मसूद ने अपनी कई सुप्रसिद्ध ग़ज़लें पढ़ीं । ‘इस उम्र में जो फिसले मुश्किल से संभलता है’ शेर को श्रोताओं ने जमकर सराहा । देर रात तक चले इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में शहर के हिंदी उर्दू के साहित्यकार, पत्रकार, एवं श्रोतागण उपस्थित थे ।

DSC_3887

अंत में आभार पत्रकार श्री शैलेष तिवारी ने व्यक्त किया ।

कार्यक्रम के समाचार आप यहां

http://www.pradeshtoday.com/epaper.php?ed=5&date=2012-12-04#

और यहां

http://naiduniaepaper.jagran.com/Details.aspx?id=431352&boxid=108313986

और यहां

http://www.patrika.com/news.aspx?id=947395

देख सकते हैं ।

D108313986

pradesh todya

14 टिप्‍पणियां:

  1. बधाईयाँ...शुभकामनाएँ....जय हो!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सचित्र रिपोर्ट पढ कर vicariously ही सही हम आयोजन में खूब सम्मिलित हुए.

    आदरणीय नीरज जी को पुनः हार्दिक बधाइयाँ तथा समस्त कवियों और शायरों को मेरी हार्दिक शुभकामनाएँ. यह जान कर और भी अच्छा लगा कि स्थानीय श्रोताओं का काव्यप्रेम उच्च स्तर का है.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. नीरज जी और आपको हार्दिक बधाई और शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. नीरज जी को बहुत बहुत बधाई इस सम्मान के लिए ...
    सफल आयोजन पे आपको भी बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. नीरज भाई को बहुत बहुत मुबारक !
    आप सब को शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  6. भाई नीरज जी को उन के इस सम्मान के लिये हार्दिक बधाई और आयोजकों को इस चुनाव के लिये धन्यवाद ।
    नीरज जी की गज़लों का एक लम्बे समय से आनन्द लेता रहा हूँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. एक अद्भूत और अविस्मरनीय आयोजन रहा। बहुत सारे लोग बहुत सारी बातें, और कुछ भावनात्मक यादों को सहेज लौटना सुखद और उत्साहवर्धक रहा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. नीरज जी को इस सम्मान के लिये बधाई! एवं आयोजकों को साधुवाद!
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  9. सभी कवियों , शायरों , आयोजकों को बहुत बहुत बधाइयाँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. नीरज जी से ब्‍लॉगिया सम्‍पर्क तो था,लंबी-लंबी ई-चर्चा भी हुईं लेकिन प्रत्‍यक्ष मिलना एक अलग ही अनुभव रहा।
    डॉ बाली के रूप में अपने ही मिज़ाज़ के एक और जनसेवक से मिलने का अवसर मिला।
    कर्नल गौतम के बारे में अनुमान सटीक निकला और सुलभ में एक अच्‍छा खासा बदलाव दिखा। अंकित सफ़र की मासूमियत बरकरार है। प्रकाश अर्श पर विवाह का असर नहीं दिखा (अब तक तो तोंद निकल आनी चाहिये थी)।
    प्रदीप कांत व शशिकांत के रूप में दो नये मित्र मिले और डॉ आजम के मंच संचालन के साथ उनके अंदर के शायर से मुलाकात हुई।
    इक़बाल मसूद साहब से परिपक्‍व शेर तो सुनने के मिले ही एक ग़रूमंत्र भी मिला।
    कुल मिला कर आनंद की स्थिति रही।

    उत्तर देंहटाएं