मंगलवार, 10 नवंबर 2009

महाराष्‍ट्र की कौरव सभा में दु:शासन चीरहरण करता रहा और हम अर्जुन की तरह हतवीर्य, भीम की तरह कायर, युधिष्ठिर की तरह नपुंसक, नकुल की तरह कापुरुष और सहदेव की तरह किन्‍नर बने बैठे तमाशा देखते रहे, हमें क्षमा करना मां हिंदी हम नपुंसक हैं ।

protest

36 टिप्‍पणियां:

  1. सुबीर जी ये क्षमायोग्य अपराध नहीं है कहाँ क्षमा कर पायेगी मां हिन्दी।मेरी कविता से चंद पँक्तिया
    तेरी बली पर
    बाइतबार,
    तेरे शाप की हक् दार,
    देख रही हू लोमहर्षक,
    दावानल हो उदभिज ,
    इस देश की
    अस्मिता,राष्टृ्भाषा
    को निगल जायेगा
    तेरा अभिशाप
    नहीं विफल जायेगा
    मैं जडमत लाचार हूं
    शर्म सार हूं .
    आज नई सज धज के साथ ब्लोग से बहुत सुन्दर संदेश दिया है बधाई और शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये राजनीति है...इसमें ये ही सब होता है...राजनेता अपने स्वार्थ के लिए किसी का भी अपमान कर देते हैं...हमारी संस्कृति इतिहास भाषा इनके लिए कोई मायने नहीं रखती...इंसानियत ही कोई मायने नहीं रखती तो फिर बाकी की बातें तो बाद की हैं...अपराधी पैरोल पर रिहा हो कर नाईट क्लब में पाए जाते हैं....विधान सभा अखाडा बन जाती है...सच्चे लोग चौराहों पर जूते खाते हैं...कुछ नया नहीं हुआ है सुबीर जी...ये रोज मर्रा की बातें हैं...जब इन्हें चुनने वाली जनता ही नहीं समझती या समझना चाहती तो फिर आप हम इनका क्या कर लेंगे...जिसकी लाठी उसकी भैंस...ये आज का मुहावरा नहीं है... तब का है जब से इंसान ने भैंस पालना शुरू किया था...आप ही नहीं हम सब आहत हैं इस घटना से...बहुत आहत...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  4. शर्मनाक! मैं अपना विरोध दर्ज करती हूँ. राजभाषा का यह अपमान (वह भी राष्ट्रवाद का दंभ भरने वाली पार्टी के जनप्रतिनिधि द्वारा )किसी देश में ऐसा अंधेर न हुआ होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  5. उरूजे क़ामयाबी पर कभी हिन्दोस्तां होगा,
    रिहा सय्याद के हाथों से अपना आशियां होगा।
    कभी वो दिन भी आएगा जब अपना राज देखेंगे,
    जब अपनी ही जमीं होगी और अपना आसमां होगा।
    हम सब आहत हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. पैर पटकने ,खिसियाने के इलावा हम कर क्या सकते हैं ?

    पंकज जी शुक्रिया इस पोस्ट के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये उनकी राजनीति है
    हम यथा संभव अपना कार्य करते रहेंगे.

    दुखद है, विरोध दर्ज करता हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रशासन शांत है..नेता शांत हैं...सत्ताधारी शांत है....! ये तटस्थता नही कायरता है। लोभ है कुर्सी का। मुखर विरोध एक राज्य के वोट को खतम कर देगा।

    राजभाषा के लिये किये जाने वाले वाले बड़े समारोहों और भाषणबाजी के खोखले व्यवहार की पोल है और इसके झूठे आयजकों के मुँह पर तमाचा.....!!!!

    और यहाँ हमें शतप्रतिशत राजभाषा में कार्य करने के खत पे खत भेजे जाते हैं मंत्रालय से....!

    समझ नही आ रहा शर्म करूँ किस पर ??? खुद पर ही कर सकती हूँ...!!!!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. Hindi itihaas pe tamacha... sach me hindi ham napunsak hain...


    arsh

    उत्तर देंहटाएं
  10. ये काला दिन पूरे भारत वासियों के लिए शर्म का दिन है ........... राजनीति और नेता दोनों ने मिल कर बस स्वार्थ के चलते राष्ट्र भाषा के साथ ये खेल खेला है .......... नीरज जी ने सच कहा है ............ये रोज मर्रा की बातें हैं...जब इन्हें चुनने वाली जनता ही नहीं समझती या समझना चाहती तो फिर आप हम इनका क्या कर लेंगे............... ऐसे मोटी चमड़े वाले नेताओं को शर्म नहीं आएगी ...........

    उत्तर देंहटाएं
  11. हम इसकी तीव्र भर्त्सना करते हैं !!! भारत माता के ऐसे कुपुत्रों का नाश हो !!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. यह दो गुण्डों की मात्र लड़ाई है.

    हिन्दी अपनी है तो मराठी क्या पराई है?

    उत्तर देंहटाएं
  13. गुरूवर,

    शायद यह पंक्तियाँ जो उद्दत की गई हैं इसी दिन के लिये ही लिखी गई हों।

    क्षैत्रियता का बँटवारा अब भाषाई आधार पर भी बाँटेगा और हम बिना किसी विरोध के कत्लखाने में बंधे जानवर से असहाय निहारेंगे।

    समर शेष है.....

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  14. Pankaj jee ,aapkee aawaaz jantaa
    kee aawaaz hai lekin jantaa bhee
    kya kare? Jaesa rajaa vaesee praja.
    Hum sharmsaar to hain lekin apne-
    apne dil mein jhaanke to baat bane.
    Angrezee bhasha ko to hum sab
    apnee-apnee god mein to bade pyar
    se bithaa rahe hain lekin Hindi ko
    aaj tak Bharat kee rashtrabhasha
    nahin banaa sake hain.Nirmla kapila
    jee ne theek hee kahaa hai--
    Dekh rahee hoon lomharshak
    davanal ho udbhij
    is desh kee
    asmita ,rashtra bhasha
    ko nigal jaayega
    tera abhishaap

    उत्तर देंहटाएं
  15. इक डाल पे उल्लू काफ़ी है बर्बाद गुलिस्तां करने को
    हर डाल पे उल्लू बैठा है अंजाम-ए-गुलिस्तां क्या होगा

    उत्तर देंहटाएं
  16. मनुष्‍य के स्‍वभाव के दर्शन पर चर्चा न करते हुए संक्षिप्‍त में कहूँ तो यह स्थिति अनादिकाल से है। मुनष्‍य की सत्‍ता, और फिर उसमें बने रहने की चाह जो न कराये सो थोड़ा। इस चाह में उजाले का मार्ग अपनाया जाय या अंधियार का यह व्‍यक्तिगत सोच और चयन का विषय है। हॉं अगर कोई परिस्थिति विशेष हमें आहत करती है तो आवश्‍यकता यह पहचानने की है कि हम ऐसा क्‍या सकारात्‍मक कर सकते हैं जो इस स्थिति का निराकरण करे।

    इस विषय में इपीक्‍टीटस का एक संदर्भ दिये बिना मैं रह नहीं पाता कि 'हे ईश्‍वर मुझे सहजता दे उन स्थितियों को स्‍वीकारने की जिन्‍हें मैं बदल नहीं सकता, साहस दे उन स्थितियों को बदलने का जिन्‍हें मैं बदल सकता हूँ, और विवेक दे इन स्थितियों का अंतर समझने का।

    साहित्‍यकर्मी अपनी सीमा में ऐसा करते आये हैं, इसमें नया कुछ नहीं है।
    दया के पात्र हैं वे जो अंधियार और उजियार में अंतर नहीं कर सकते।
    तिलक राज कपूर

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाकया शर्मनाक है!
    आपकी अभिव्यक्ति दमदार!

    उत्तर देंहटाएं
  18. ati khedjanak, aur uspe bhi abhi tak na hi rajya na kendra sarkaar dwara koi virodh darz kiya gaya...
    Maa Hindi Begaani ho gayin apnon ke beech me hi..
    Jai Hind..

    उत्तर देंहटाएं
  19. किसकी असली मंशा क्या है, कौन जानता है ! और किसी के अपमान करने से, भैया, हमारी हिन्दी को कुछ नहीं होगा. पर हाँ, राजनीति में घिसटने से भाषा को कष्ट होता होगा चाहे वह हिंदी हो या मराठी, ये सोच कर मन व्यथित है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. dukhad............
    atyant dukhad
    _______________ye sharm ka nahin

    _______________krodh ka vishya hai

    jai hind
    jai hindi !

    उत्तर देंहटाएं
  21. आपके कथन से सम्पूर्णता: सहमति -- -- क्या समाचार घटा , वह नहीं जानती थी -- --
    आप हर सामायिक घटना पर पैनी नज़र रखते हैं और सभी की सुरक्षा की चिंता भी करते हैं
    क्या किया जाए ताकि भविष्य के लिए " हिन्दी भाषा भारती " का गौरव अक्षुण्ण रहे ?
    इस पर भी ठोस विचार हो --- हम सभी आपके साथ हैं पंकज भाई --
    विक्षुब्ध :-(
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  22. माँ तो श्रधेय रही है हमेशा से, उसका
    आँचल उजला रहे, यही हमारी सम्पति है

    हमें अपनी हिंदी ज़बाँ चाहिये

    सुनाए जो लोरी वो माँ चाहिये

    जहाँ हिंदी भाषा के महकें सुमन

    वो सुंदर हमें गुलसिताँ चाहिये

    मुहब्बत के बहती हों धारे जहाँ

    वतन ऐसा जन्नत निशाँ चाहिये

    देवी नागरानी

    उत्तर देंहटाएं
  23. nafrat ka ant nahi hota hai, jo log pahle dharm, varg, jaati ko adhar banakar samaj me ghruna failane ka karya karte rahe hai unki nafrat bhasha pe jaakar khatm nahi hone wali, aur nafrat ka muqabla nafrat se nahi sirf pyar se hoga isliye isko itni pramukhta mat dijiye, hitler ke prashansako se aur kya ummeed karte hai?

    उत्तर देंहटाएं
  24. गुरु जी प्रणाम

    जो प्रकरण घटित हुआ उसमे केवल ओछी राजनीति है

    वीनस केशरी

    उत्तर देंहटाएं
  25. किसी भी देश को एक सूत्र में बाँधने के लिए एक राष्ट्र-भाषा को मान्यता देना आवश्यक है. शर्म की बात है कि ६२ वर्ष हो गए और प्रशासन और सत्ताधारी नेताओं के कानों पर जूं तक नहीं रेंगती. राष्ट्रभाषा के प्रति उदासीनता के व्यवहार से देश बंटता जा रहा है. इस प्रकार प्रदेशों की भाषाओं के झगड़ों में जिस देश की राष्ट्रभाषा का निरादर हो तो वेदेशी हंसते हैं हमारी मूर्खता पर जब देखते हैं कि हिन्दी पर आज भी अंग्रेजी विराजमान है. भारत देश में ही भारतीय अंग्रेजी स्कूलों में भारतीय बच्चों को मातृभाषा बोलने की अनुमति नहीं है बल्कि मातृभाषा बोलने पर सजा मिलती है - कैसी विडम्बना है! यह वही स्कूल हैं जहाँ हमारे नेताओं, देश की बागडोर सँभालने वाले लोगों के बच्चे पढ़कर देश की बागडोर लेंगे- उनसे आप क्या आशा कर सकते हैं.
    यह देखकर हृदय और भी खिन्न होता है जब एक विदेशी पत्रकार, मार्क टली के मुंह से हिंदी की दशा देख कर यह सुनते हैं: 'जो बात मुझे अखरती है भारतीय भाषा के ऊपर अंग्रेजी का विराजमान! क्योंकि मुझे यकीन है कि बिना भारतीय भाषा के 'भारतीय संस्कृति' जिंदा नहीं रह सकती। दिल्ली में जहां रहता हूं, उसके आसपास अंग्रेजी पुस्तकों की तो दर्जनों दुकानें हैं, हिन्दी की एक भी नहीं। हकीकत तो यह है कि दिल्ली में मुश्किल से ही हिन्दी पुस्तकों की कोई दुकान मिलेगी।"
    देश की किस को फिक्र है, बस कुर्सी बनी रहे! अमेरिका और अन्य देशों में हिन्दी पढ़ने और पढ़ाने का कार्य शुरू हो गया है और हमारे अपने ही देश में हिन्दी को कुचलने के लिए अनेक अस्त्र-शस्त्र ढूँढ रहे हैं.
    पंकज जी, इस घटना से सभी आहत हैं, देश-विदेश में सभी आपके साथ हैं.
    जय भारत, जय हिन्दी!

    उत्तर देंहटाएं
  26. SHARMNAK !

    LEKIN SANJAY BENGANEE SE SAHMAT HOON . YE BHASHA KA NAHEEN BALKI DO GUNDE ,( JO AAPAS ME DOST HAIN ) UNKEE NOORA KUSHTEE HAI .

    BATA DOON KI TEEN SAAL PAHALE YAHEE DONO KEE PARTIYAN ,INKE SAMET , THANE KE STHANEEY NIKAY CHUNAV ME GADHBANDHAN KAR SAATH LADEEN THEEN .BAAT NAHEEN BANEE.

    AB DONO APNE APNE VOTE BANK KO BEWAKOOF BANANE KE LIYE YE DRAMA KAR RAHE HAIN .

    NA AAZMEE KA HINDEE SE KOYEE SAROKAR HAI NA RAJ THAKRE KA MARATHEE SE.

    @ NEERAJ JEE
    HAAN YE KHEL HAI . BEWAKOOF TO JANTA HAI JO SAMAJHTEE NAHEEN .

    HAAN IS KHEL KEE SOOTRADHAR KANGRESS BHEE HAI .BANTO AUR RAJY KARO ' .

    उत्तर देंहटाएं
  27. हिंदी के अपमान पर हम सब शर्मसार हैं और अपना विरोध दर्ज करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  28. हिन्दी के अपमान पर अनमने हैं पर केवल विरोध ही दर्ज कर सकते हैं और शर्म ही महसूस कर सकते हैं। ऐ मातृभाषा हिन्दी हम बेबस हैं इन भाषाई कसाईयों के आगे, पर हम तेरे सेवक हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  29. पंकज जी, इस विषय पर बस शर्म, शर्म शर्म वो उन्हें नहीं हम हिंदीभाषियों को. इससे ज्यादा कुछ नहीं कहना.........................

    उत्तर देंहटाएं
  30. हिंदी अपमान का विरोध हर स्तर पर होना चाहिए | पर वर्त्तमान मराठी और हिंदी विवाद नहीं है | यहाँ ठाकरे और अबू आजमी अपनी गन्दी राजनीति मैं मराठी और हिंदी को घसीट रहे हैं | हम हिंदी प्रेमियों को इस चाल को भली भांति समझ लेना चाहिए |

    उत्तर देंहटाएं
  31. Subeer Bhai

    Koyee bhee padha likha aur suljha hua insaan wohi mehsoos karega jo aap kar rahey hain.

    Aaj tak Tamil Nadu ko chhor kar (woh bhee raajneetik kaarno se) kisi bhee pradesh meiN Hindi ke saath aisa durvyavhaar nahin huaa jo ki Mahrarashtra Vidhan Sabha mein hua.

    Aaj tak hum Hindi aur Angrezi ke beech kee ladaai lad rahey thay.Hamein kaha jaata thaa ki Hindi Bharat ke Rulers kee bhasha kabhi nahin thee - Pharasi, Urdu aur angrezi ki misaal dee jaati thee.

    Aaj haalaat bahut bigad gaye hain. Raajneetigya apney faaydey ke liye kuchh bhee kar sakta hai aur jaanta hai ki pratyek party Popularity competition mein lagi hai. Congress, BJP, SP, BSP, NCP kisi mein dum nahin hai ki khul kar iss baat mein MNS kee policy aur aacharan ke viruddh kuchh keh sakein.

    Aise RaajneetigyoN ke viruddh Inqalaab zaroori hai.

    saadar

    Tejendra Sharma
    General Secretary
    Katha UK
    London

    उत्तर देंहटाएं
  32. सुबीर भाई,
    जो आवाज़ आप ने बुलंद की है, वह हर भारतीय को, हिंदी प्रेमी को करनी चाहिए थी,
    पर यह हमारी बदकिस्मती है-

    उत्तर देंहटाएं
  33. kye behtar ho ki mere boss mujhey tamil me order karen fir main unsa bhojpuri me jawab dun unhe samajh na aye to wo apne seceretory se pochey fitr wo uuska maithili me jwab de.
    huh.
    " rajbhasha ki hai sewa ka puruskar yehi main apne ghar ke liye chat bhi nahi le paya.
    satya

    उत्तर देंहटाएं
  34. aaj yadi rashtrabhasha ke apman ki jagah aur kuch hota to na jaane kitna bawela khada ho jata...........magar aaj ke halat ke hum khud jimmedar hain jab tak hum khud jagruk nhi honge tab tak sirf apman hi sahte rahenge........hamein ek baar phir badlaav lana hoga tabhi disha milegi...........sabko badalna hoga phir chahe sarkar ho ya janta.

    उत्तर देंहटाएं