शुक्रवार, 13 मार्च 2009

सुन दिल्‍‍ली, तुझसे मिलने को आ रहा हूं । कई सारी शुभकामनाएं लिये और कई मित्रों के स्‍नेह का तिलक अपने माथे पर लगाये, और माता पिता की दुआएं सर पर लिये ।

आज बस एक छोटी सी पोस्‍ट क्‍योंकि बाकी का काम तो हिंद युग्‍म के मित्रों शैलेष भारतवासी जी और सजीव सारथी जी ने यहां http://hindi-khabar.hindyugm.com/2009/03/sheela-dixit-release-13-new-books-hindi.html कर ही दिया है । हिंद युग्‍म ने एक सुंदर सा ग्राफिक्‍स भी <a href="http://hindi-khabar.hindyugm.com/2009/03/sheela-dixit-release-13-new-books-hindi.html" target="_BLANK"><img src="http://i173.photobucket.com/albums/w76/bharatwasi001/gyanoday_vimochan.gif" title="Padhariye"/></a> बनाया है जो मेरे लिये सुखद है । मैं तो केवल आप सबको आमंत्रित कर रहा हूं कि 14 मार्च को सुबह 11 बजे आप सभी दिल्‍ली के हिंदी भवन में अपने इस मित्र का मान बढ़ाने के लिये पहुंचे । मेरे पहले कहानी संग्रह ईस्‍ट इंडिया कम्‍पनी का विमोचन वहां भारतीय ज्ञानपीठ के आयोजन में होना है । दिल्‍ली की मुख्‍यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित जी तथा श्री कुंवर नारायण जी के कर कमलों से ये विमोचन होना है । आप सब के आने से मेरा मान बढ़ेगा । मैं स्‍वयं भी आज शताब्‍दी एक्‍सप्रेस से निकल रहा हूं रात 11 तक दिल्‍ली पहुंच जाऊंगा ताकि कल सुबह के कार्यक्रम में शामिल हो सकूं । आप सब भी अपने मित्र का मान बढ़ाने पहुंचे ।

gyanpetth pankaj

आपका ही सुबीर

19 टिप्‍पणियां:

  1. गुरु जी सादर प्रणाम,
    आपका बेशब्री से इंतज़ार कर रहा हूँ देल्ली में खुद दिल्ली और दिल्ली वाले...दिल्ली की धरती पे आपका हार्दिक स्वागत है..

    आपका
    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  2. आमंत्रित करने का धन्यवाद, तन से न सही पर मन से अवश्य उपस्थित रहूंगा.
    ईस्वर से प्रार्थना है कि भविष्य में भी आपको इसी तरह पुरष्कृत होने के मौके मिलते रहे.

    चन्द्र मोहन गुप्त

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बहुत बधाईयाँ और शुभकामनाऐं!!!

    तन से न सही, मन से आपके साथ होंगे वहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. Ji Subir ji, Gyanoday aur Niraj ji ke blog se bhi is suchna ka pta chla... aapko bhot bhot BDHAI...!!Dusron ke prati jo aapke dil me safgoi aur imandari hai wahi aapki kamyabi ka raaz hai...ishvar aapko aur safalta de yahi kamna hai....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप की पुस्तक के लोकार्पण का कार्यक्रम सफल रहे, इसी शुभकामना के साथ आप सफलता की सीढियां चढते जाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. यह सूचना और आपकी पुस्तक की संक्षिप्त चर्चा मुझे कल ही भारतीय ज्ञानपीठ के मासिक बुलेटिन ज्ञानपीठ समाचार से प्राप्त हुई | आपको बधाई और कार्यक्रम की शुभकामना |

    उत्तर देंहटाएं
  7. गुरुदेव हम तो सदा आपके साथ हैं...साया कैसे दूर रह सकता है भला....??? बहुत बहुत शुभकामनाएं...दिल्ली पर आप की पताका फेहरे और खूब फेहरे इसी कामना के साथ:

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बहुत बधाई सुबीर जी, अनंत शुभकामनाएं..

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बहुत स्वागत है पंकज जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुबीर भाई ,
    आपकी पुस्तक के विमोचन मेँ
    हम भी वहीँ उपस्थित हैँ
    ऐसा ही मानियेगा
    बहुत खुशी है
    और आपको ढेरोँ शुभकामनाएँ भेज रहे हैँ -
    बधाई हो जी !!
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी पुस्तक "ईस्ट इंडिया कम्पनी" के विमोचन के लिए बहुत बहुत शुभकामनाएं. भारतीय ज्ञानपीठ से प्रकाशन के कारण इस खबर पे चार चाँद लग गए हैं :) अगली बार भारत आयी तो यह पुस्तक ज़रूर खरीदूँगी. आपकी कलम नई ऊँचाइयों को छूए और लेखन मानव हृदय की गहराईयों तक पहुँचे.

    उत्तर देंहटाएं
  12. guru ji ko hardik badhaeeyan.....kshama ki aap ke dwara diya gaya pratham nimantran hi sweekar na kar saka.......par main aap ke saath hi hoon..........

    उत्तर देंहटाएं
  13. guru जी
    बहुत बहुत badhaai, pustak के vimochan की shubh kamnaayen

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्रणाम गुरु जी,

    शत शत बधाइयाँ, अर्श जी के ब्लॉग पे कुछ जानकारी मिल गई है बाकि आपसे जल्द ही मिलने की उम्मीद है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. अब तक तो आप वापस आ भी गये होंगे...! उम्मीद है कि जल्द ही दिल्ली के अनुभव हमसे बाँटे जायेंगे....!

    उत्तर देंहटाएं
  16. सर अद्‍भुत कहानी.....अभी-अभी पढ़ कत उठा हूँ। यहाँ दून का मेरा किताब वाला मेरी प्रति शाय्द कल तक ले आये....किंतु शिर्षक कहानी आज ही पढ़ गया हिंदी-युग्म पर।
    अब तारीफ़ में कुछ कहना .... आपकी कलम का जादू मानो नशा-सा कर गया है।
    अदऽभुत शिल्प सर, अद्‍भुत !!!
    पूरी कहानी में सधे हुये व्यंग्य-कटाक्ष से उस रेल-यात्रा को एकदम जीवंत सा कर दिया है और शिर्षक से जुड़ा हुआ सस्पेंस तो आखिरी शब्द तक बाँधे रहता है...
    i satand in SAAWDHAAN and salute you with deepest of my respect

    उत्तर देंहटाएं