मंगलवार, 10 जुलाई 2018

वैश्विक हिन्दी चिंतन की त्रैमासिक अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका "विभोम-स्वर" का वर्ष : 3, अंक : 10 त्रैमासिक : जुलाई-सितम्बर 2018

मित्रों, संरक्षक तथा प्रमुख संपादक सुधा ओम ढींगरा Sudha Om Dhingra एवं संपादक पंकज सुबीर Pankaj Subeer के संपादन में वैश्विक हिन्दी चिंतन की त्रैमासिक अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका "विभोम-स्वर" का वर्ष : 3, अंक : 10 त्रैमासिक : जुलाई-सितम्बर 2018, संपादकीय, मित्रनामा, साक्षात्कार- सुमन घई Suman K. Ghai के साथ सुधा ओम ढींगरा की बातचीत। कथा कहानी- बत्तीस कलाओं के लीलाधारी- भरत प्रसाद Bharat Prasad , और कुलसूम मर गई...- ज़ेबा अलवी Zeba Alavi , मास्साब- डॉ. कविता विकास Kavita Vikas , गुलशन कौर- देवी नागरानी Devi Nangrani , तवे पर रखी रोटी- डॉ.विभा खरे , नम्बर प्लेट- राजेश झरपुरे Rajesh Zarpure । लघुकथाएँ- खिलौना- अमरेंद्र मिश्र Amrendra Mishra , मूर्तिकार- सुरेश सौरभ, कट्टरपंथी - राहुल शिवाय Rahul Shivay , बिखरी पंखुड़ियाँ - ज्योत्सना सिंह , भैंस के आगे बीन बजाना - गोवर्धन यादव Goverdhan Yadav , एक लाश-एक चेहरा- अमरेंद्र मिश्र। भाषांतर- एक मुक़दमा और एक तलाक़, यीडिश कहानी, मूल कथा : आइज़ैक बैशेविस सिंगर, अनुवाद : सुशांत सुप्रिय Sushant Supriye । व्यंग्य- टर गए हरीशचंद्र, प्रेम जनमेजय । दृष्टिकोण- सिविक सेन्स, कृष्ण कान्त पण्ड्या Krishna Kant Pandya । व्यक्ति विशेष- सूर्य भानु गुप्त, वीरेंद्र जैन Virendra Jain। शहरों की रूह- इण्डोनेशिया का रंगमंच / रामलीला, हिजाब वाली सीता, डॉ. अफ़रोज़ ताज Afroz Taj
संस्मरण- सुधियों के पन्नों से- माश्की काका, शशि पाधा Shashi Padha । स्मृति शेष- मास्टर ग़ज़लकार प्राण शर्मा को श्रद्धांजलि, उषा राजे सक्सेना Usha Raje Saxena । ग़ज़लें- विज्ञान व्रत Vigyan Vrat , सुभाष पाठक ‘ज़िया’ , राज़िक़ अंसारी Razik Ansari , ख़याल खन्ना। कविताएँ- @अनिल प्रभा कुमार AnilPrabha Kumar , डॉ. प्रदीप उपाध्याय @pradeep upadhyay , प्रगति गुप्ता Pragati Gupta , @मालिनी गौतम @malini gautam , प्रतिभा चौहान Pratibha Chauhan , डॉ. संगीता गांधी @sangita gandhi , नीलिमा शर्मा निविया @nilima sharma , परितोष कुमार ‘पीयूष’ @paritosh kumar piyush , गौरव भारती Gaurav Bharti , पूनम सिन्हा ‘श्रेयसी’ @poonam sinha । नवगीत- जगदीश पंकज @jagdish pankaj। समाचार सार- अखिल भारतीय लघुकथा सम्मेलन Jyoti Jain , ‘मोगरी’ का लोकार्पण Murari Gupta , छोटे बच्चे गोल-मटोल का लोकार्पण, अरुण अर्णव खरे के संग्रह कालोकार्पण Arun Arnaw Khare , रामदरश मिश्र का सम्मान, डॉ. कमलकिशोर गोयनका प्रज्ञा सम्मान Kamal Kishore Goyanka , अभी तुम इश्क़ में हो का लोकार्पण , गोपालदास नीरज को सम्मानित किया, कथाकार अभिमन्यु अनत को श्रद्धांजलि, शैलेंद्र शरण के संग्रहों का लोकार्पण Shailendra Sharan , डॉ. लालित्य ललित Lalitya Lalit को सम्मान, डॉ. कर्नावट Jawahar Karnavat को राष्ट्रीय पुरस्कार, ध्रुपद कार्यशाला, चन्दन-माटी उपन्यास का विमोचन, पटना में लघुकथा विमर्श कार्यक्रम, साहित्य आयोजन पश्चिमी दिल्ली में, मोर्रिस्विल्ल में साहित्यिक गोष्ठी, गुफ़्तगू सम्मान समारोह, आख़िरी पन्ना 74 आख़िरी पन्ना। आवरण चित्र राजेंद्र शर्मा Babbal Guru डिज़ायनिंग सनी गोस्वामी Sunny Goswami Shaharyar Amjed Khan , आपकी प्रतिक्रियाओं का संपादक मंडल को इंतज़ार रहेगा। पत्रिका का प्रिंट संस्क़रण भी समय पर आपके हाथों में होगा।
ऑन लाइन पढ़ें
https://www.slideshare.net/vib…/vibhom-swar-jul-sep-2018-web
https://issuu.com/vibhoms…/docs/vibhom_swar_jul_sep_2018_web
वेबसाइट से डाउनलोड करें
http://www.vibhom.com/vibhomswar.html
फेस बुक पर
https://www.facebook.com/Vibhomswar
ब्लाग पर
http://vibhomswar.blogspot.in/
http://www.vibhom.com/blogs/
http://shabdsudha.blogspot.in/
विभोम स्वर टीम

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें