बुधवार, 10 मार्च 2010

प्रिय गौतम जन्‍मदिवस की शुभकामनाएं । तुम यूं ही जगमगाते रहो यूं ही खिलखिलाते रहो, संजीता और तनया के साथ जीवन पथ पर सफलता के साथ अग्रसर रहो ।

गौतम राजरिशी, नाम में क्‍या रखा है ये भले ही शेक्‍सपियर ने कहा हो । लेकिन मैं शैक्‍सपियर को नहीं मानता । नाम में काफी कुछ रखा होता है । गौतम नाम अपने आप में ही सम्‍पूर्ण नाम होता है और तिस पर राजरिशी का सरनेम सामने लगा हो तो बात वैसे ही मुकम्‍मल हो जाती है । मगर फिर भी गौतम राजरिशी है कौन । सुना है कोई मेजर है भारतीय सेना में जो इन दिनों काश्‍मीर के सीमांत इलाके में पदस्‍थ है । अच्‍छा ! उससे क्‍या होता है । वैसे तो बहुत से मेजर पदस्‍थ हैं सीमा पर । इन महाशय का जिक्र करने की अलग से क्‍या आवश्‍यकता है । है जनाब है, अलग से जिक्र करने की आवश्‍यकता इसलिये है कि हर अच्‍छी चीज का जिक्र करते रहने से हमारे अंदर भी एक प्रकार की सकारात्‍मक उर्जा आ जाती है ।

जन्‍मदिन की शुभकामनाएं गौतम राजरिशी

RuzeBuket0013web[7] TTTBirthdaycake...[3] RuzeBuket0013web[7]

5be33cbb47ad8d81cc21f8dc13bfc214[7]  05102009101 5be33cbb47ad8d81cc21f8dc13bfc214[7]

cake_04[8] cake_04[8] cake_04[8]

गौतम राजरिशी नाम के इस फौजी से बहुत कुछ सीखा जा सकता है । बहुत कुछ का मतलब सचमुच ही बहुत कुछ । जैसे सबसे पहले जो बात सीखी जा सकती है वो ये कि रिश्‍तों का सम्‍मान किस प्रकार से किया जाता है । गौतम रिश्‍तों को हैंडल विथ केयर की परिभाषा में रखता है । उसके लिये रिश्‍ते कांच के नाजुक सामान हैं जिनको व्‍यवहार में लाते समय बहुत सावधानी बरतनी चाहिये । एक और महत्‍वपूण बात जो गौतम से मैंने सीखी है वो ये कि रिश्‍ते आजीवन के होते हैं । आज का ये युग जहां पर हम सबको हर बात में डिस्‍पोजेबल चीजों की आदत हो गई है । हम रिश्‍तों को भी डिस्‍पोजेबल चीजों की तरह उपयोग करते हैं । उस दौर में गौतम के लिये रिश्‍ते उपयोग की वस्‍तु न होकर जीवन के आनंद की वस्‍तु हैं । गौतम ने श्री आलोक सेठी की मेरी उस पसंदीदी कविता को झूठा साबित कर दिया है जिसमें उन्‍होंने लिखा है कि हमें कहा गया था कि चीजें उपयोग के लिये होती हैं और रिश्‍ते प्‍यार करने के लिये, हम उल्‍टा समझ बैठे, हम चीजों से प्‍यार करते हैं और रिश्‍तों का उपयोग ।

गौतम के बारे में बहुत सपाट बयान यदि दूं तो ये तो कहूंगा कि भले ही वो इन दिनों अपनी ग़ज़लों के कारण बहुत चर्चित हो लेकिन अभी उसकी ग़ज़लें बहुत ही प्रारंभिक अवस्‍था में हैं । मगर ये उसके व्‍यक्तिव का ही प्रभाव है कि ये ग़ज़लें चर्चित हो रही हैं । गौतम से अभी तक एक बार भी मुलाकात नहीं हो पाई है किन्‍तु केवल मिलना ही तो रिश्‍तों का आधार नहीं होता है । दरअसल में तो हमारी वेव लैंथ होती है जो मिल जाये तो रिश्‍ते बन जाते हैं । और उसके बाद फिर वो रिश्‍ते हमारे साथ उम्र भर चलते हैं क्‍योंकि हमारी वेव लैंथ भी हमारे साथ उम्र भर चलती है ।

तो फिर बात वही है कि क्‍यों किया जाये सेना के इस मेजर का जिक्र ? सेना के मेजर का जिक्र करके इमोशनल आधार पर लोगों को आकर्षित करने के लिये या फिर ये बताने के लिये कि हम भी देश भक्‍त हैं । नहीं गौतम का जिक्र इन सब कारणों के लिये नहीं बल्कि इसलिये कि गौतम का जिक्र मौजूदा दौर में जरूरी है । किसी समय संचालन के दौरान शायद इस वाक्‍य को उपयोग किया था हम कवियों को इसलिये गर्व नहीं है कि भारत का प्रधानमंत्री ( श्री अटल जी ) कवि भी है । हमें तो गर्व इसलिये है कि एक कवि प्रधानमंत्री है । गौतम के लिये भी वही बात कि गौतम उस परिभाषा को खरा साबित करता है जिसमें कहा गया है कि साहित्‍यकार होने के लिये जरूरी है पहले अच्‍छा इंसान भी होना । तो गौतम भी पहले बहुत अच्‍छा इंसान है फिर कवि है और इन सबके सा‍थ एक अतिरिक्‍त बात ये है कि वो फौजी भी है । फौजी होना उसका प्रथम गुण नहीं है । प्रथम गुण है अच्‍छा इंसान होना और दूसरा है कवि होना । तो गौतम का जिक्र करना इसलिये आवश्‍यक है कि अच्‍छे इंसानों का जिक्र करते रहना इंसानियत के बाकी रहने के लिये आवश्‍यक है और अच्‍छे कवियों का ज्रिक्र करते रहना साहित्‍य के बाकी रहने के लिये आवश्‍यक है ।

बहुत सोचा कि गौतम को क्‍या दूं जन्‍मदिन पर । कोई गीत दूं । लेकिन कौनसा । फिर अपना ही एक गीत याद आया । उसे ही हेड फोन लगा कर तुरंत रिकार्ड किया और उसको ही देने का फैसला किया । इसलिये भी कि उसके बोल गौतम पर सटीक बैठते हैं । हर अंतरा मानो गौतम और उस जैसे लोगों के लिये ही बना है । हालांकि आफिस में बैठकर रिकार्ड करना और वो भी कक्षा के समय में , उसके कारण गीत की रिकार्डिंग और लय दोनों ही बिगड़ गई हैं । पहले दो अंतरों में तो धुन भी शायद ग़लत हो गई है । मगर फिर भी उपहार देने वाले का मन देखा जाता है उपहार को नहीं । सो बस ये कि जैसा भी रिकार्ड हुआ है उसमें आपको शब्‍द तो समझ पड़ ही जाएंगें । बस रिकार्डिंग की खराबी आवाज की खराबी और लय के टूटने पर ध्‍यान न दें ।

प्रिय गौतम बहुत स्‍नेह के साथ ये गीत तुमको दे रहा हूं ।

यदि फ्लैश प्‍लेयर न चले तो नीचे की लिंक से डाउनलोड कर लें ।

http://www.divshare.com/download/10715010-4b2

http://www.archive.org/details/TezSamayKi

जन्‍म दिन की हजार हजार शुभकामनाएं । दीर्घायु हो, यशस्‍वी हो और अपने अंदर की आग और नमी दोनों को जीवन भर अपने अंदर बचा कर रखने में सफल रहो । वैसे ही बने रहो जैसे हो । संजीता के समर्पित जीवनसाथी, तनया के सजग और सघन पिता, माता पिता के सुकमार लाडले । बस यही बने रहना तो आवश्‍यक होता है जीवन में ।

समूचे ब्‍लाग जगत की तरफ से शुभकामनाएं ।

32 टिप्‍पणियां:

  1. गौतम जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. गौतम भाई को जन दिन विशेष की बहुत बहुत बधाई... कुछ कह नहीं पा रहा हूँ बस ये आज फिर से कहूँगा के गौतम भाई हिंद और हिंदी दोनों की सेवा तत्परता से कर रहे हैं हैं....

    फिर से आता हूँ

    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  3. गौतम को जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेजर गौतम को जन्मदिन की हार्दिक बधाई एवं अनेक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. गौतम जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  6. उपहार स्वरुप समर्पित रचना एकदम सटीक है...आनन्द आ गया सुन कर आपकी आवाज में.

    उत्तर देंहटाएं
  7. gautam ji ko janamdin ki hardik shubhkamnayein.

    tu kavi ho ya sainik
    dhar banaye rakhna
    hosle buland rakhna
    aage hi badhte rahna

    उत्तर देंहटाएं
  8. गौतम जी को जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई और भगवान से प्रार्थना करती हूँ कि उसके खजाने मे जो भी सुख समृद्धी है वो सब गौतम को दे। उसे जीवन शक्ति और लम्बी आयू दे । परिवार को सदा हंसता खेलता रखी हम सब को हमारे देश को उसकी बहुत जरूरत है। उनकी जिन्दादिली, इन्सानियत और सुहृदयता ऐसे ही बनी रहे। उसके साथ साथ पीहु और रंजीता बहु को भी ढेरों आशीर्वाद । आपका गौतम को दिया तोहफा बहुत अच्छा लगा। वैसे गुरू चेला दोनो की तारीफ करने को जी चाहता है। आपका ये परिवार यूँ हे हंसता खेलता रहे। आपको भी आशीर्वाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. पंकज जी, आदाब
    सच कहा आपने...
    गौतम जी पर हम सबको नाज़ है
    जन्मदिन पर ढेर सारी शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  10. खुदा तो मिलता है इंसान नहीं मिलता
    ये वो शै है जो देखी कहीं कहीं मैंने

    किसी शायर का कहा गया ये शेर गौतम जैसे व्यक्ति के लिए सटीक बैठता है...सच्चा और अच्छा इंसान होना बहुत अहम् है जीवन में और ये ही दो बातें हम में से अधिकांश जीवन भर नहीं कर पाते...गौतम और उसके पूरे परिवार को इस शुभ दिन की शुभकामनाएं.
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत फक्र और ख़ुशी से गौतम राजरिशी को जन्मदिन की बधाइयां... !!

    दीप जलते रहे झिलमिलाते रहे
    आप हँसते रहे मुस्कराते रहे !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. गौतम जी को बहुत बहुत बधाई ... उनका हंसता हुवा चेहरा ... खुला व्यक्तित्व ... सादपन अक्सर मुझे याद आता है ... उनसे हुई छोटी सी मुलाकात लंबी यादगार बन गई है ...... भगवान से प्रार्थना है उनको लंबी आयु और सदा खुश रखे ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. गोया के मेरी जान .तुम भी मार्च की पैदाइश हो.....फिलहाल कुछ मोहब्बते आसमान में उछाल रहा हूँ.....अलग - अलग शक्लो में .अपनी खिड़की खोलो.....ओर चीयर्स ......

    उत्तर देंहटाएं
  14. अपने अदर की आग और नमी को जीवन भर अपने अंदर बचा के रखने में सफल रहो

    इस स्वर के साथ आमीन का स्वर मिलाती हूँ और साथ ही आपके गीत की एक पंक्ति यूँ कहना चाहूँगी

    ये पलाश के फूल भी है संग अंगारे हैं
    यायावर हैं, आवारा हैं, बंजारे हैं।


    सच कहा गीत का हर टुकड़ा मानो इन्ही के लिये लिखा गया हो।

    गुरु का आशीष बहुत बड़ी उपलब्धि है। इसीलिये तो आपके ये मानने के बावज़ूद कि उनकी गज़ल अभी प्रारंभिक दौर में है, उनको एक गज़लकार के रूप में ख्याति मिल रही है। ईश्वर आपके आशीर्वचनों के एक एक शब्द की परिणिति सत्य में करें मैं बस यही कामना करूँगी।

    मगर आपसे शिकायत ये कि जब सब के रिश्तों की बात आई तो मेरा वीर बने रहने का आशीष क्यों नही दिया आपने....???

    इसी लिये तो कहती हूँ कि मेरे प्रति महिला होने के कारण पक्षपात होता है।

    हा हा हा हा

    उत्तर देंहटाएं
  15. मेरी ओर से भी ढेरों मंगलकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  16. गौतम भैया को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाये.
    गीत तो अभी सुना नहीं है, रूम पे जाके ही सुन पाउँगा मगर गुरु जी के स्वयं के गीत और स्वर है तो निसंदेह ही कोई हीरा ही चुना होगा हीरे के लिए. आप के चेहरे पे मुस्कान सदा खिलखिलाते रहे और अच्छे से भी अच्छा करें. एक अपने शेर से आपको पुनह जन्मदिन की लाख लाखबधाई
    "हो मुबारक दिन तुम्हें ये उम्र भर खुशियाँ मिलें.
    सिम्त जिस भी तुम चलो हर मोड़ पर खुशियाँ मिलें.
    दिल दुआ देता है मेरा, आप अच्छा ही करें,
    हर कदम मंजिल तरफ हो राह पर खुशियाँ मिलें."

    उत्तर देंहटाएं
  17. Goytam ji janamdin par meri bhi hardik shubhkamnaayen sweekar kare ......

    Pankaj ji aapki aawaz mein gazal sun kar bada sakun mila ....

    yayavar hai aawara hai bajaare hain
    bahte dhaare hain .......

    behad pasand aayi

    Naseeb wale logon ko hi aise aashirvaad mila karte hain

    उत्तर देंहटाएं
  18. मेजर गौतम जी को माइनर 'मशाल' की तरफ से जन्मदिन की लख-लख बधाइयाँ
    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  19. गौतम, जन्मदिन की शुभकामनाएँ..
    पहले सोचती रही कि यहाँ से क्या भेजूँ..
    फिर लगा कि आशीर्वाद से ऊपर क्या होगा ?
    पंकज और कंचन के द्वारा आप के बारे में इतना
    कुछ जान चुकीं हूँ कि आप जैसे इंसान के लिए तो
    ढेरों पूरी दुनिया के आशीर्वाद..

    उत्तर देंहटाएं
  20. सब कुछ सही कहा है गुरु जी ने , आज मैं हतप्रभ हूँ इस बात पर नहीं के गुरु जी ने गौतम भाई की प्रशंसा की है बल्कि इस पुरानी कथनी पर के गुरु कभी शिष्य की प्रशनसा पूरी तरह से नहीं करता ... हलाकि गुरु जी ने यह बात यहाँ भी की है के अभी प्रारम्भिक स्तर में हैं मगर जो मुकाम इन्होने प्रारंभ में हासिल किया है वो किसी के लिए भी रश्क की बात होगी... खास कर नए ग़ज़लकारों में जो भी लिख रहे हैं... गुरु जी के आशीर्वाद से और भी ये बढ़ता जायेगा .. आमीन ..
    रश्क की बात नहीं है आज बर्थडे बॉय के लिए सब कुछ माफ़ है ... आज गुरु जी अपनी सारी तालीम उन्हें दे देते तो भी नहीं होती ... :) :)
    मुबारका फिर से इस मुक़द्दस दिन के लिए ...


    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  21. गौतम जी जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    मैं रिश्ते बताने में बड़ा संकोची हूँ मगर आपसे जो रिश्ता बना है उसे जीवन पर्यंत निभाने की ख्वाहिश है

    एक बार फिर से जम्दीन की बहुत बहुत शुभकामनाएं

    आपका वीनस केशरी

    उत्तर देंहटाएं
  22. गौतम जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  23. आदरणीय गौतम जी को उनके जन्मदिवस पर हार्दिक बधाई..और आपको भी इतनी खूबसूरत पोस्ट और पाडकास्टिंग सहेजने के लिये...
    गौतम साहब की ग़ज़लें जहाँ हमारी कच्ची समझ के नवजात परिंदों को परवाज के लिये विस्तृत आकाश देती हैं..वहीं उनकी वैचारिक समृद्धि और पुस्तकानुराग चमत्कृत भी करता है..

    उत्तर देंहटाएं
  24. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  25. हमें कहा गया था कि चीजें उपयोग के लिए होती हैं और रिश्ते प्यार के लिए, हम उल्टा समझ बैठे, हम चीजों से प्यार करते हैं और रिश्तों का उपयोग.
    ...बहुत बड़ी बात कही है गौतम जी ने. जरूरी नहीं कि अच्छा कवि अच्छा इंसान भी हो लेकिन गौतम जी को देख कर, उनकी बातें सुनकर और उन्हें पढ़कर महसूस होता है कि व्यक्तिगत जीवन में भी आप एक अच्छे इंसान हैं.
    ..इस पोस्ट के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  26. oh! mera pichhla comment publish nahi ho paya hai!!

    b'day boy GAUTAM ji jaise hi kuchh log hain jis wajah se main nastik hone se bacaa huaa hun. kyonki binaa meri kisi yogyataa ke aise sahaj, saral evam samvedanshil logom se milanaa maatr sanyog to nahin ho saktaa!!!

    major saab ko bahut bahut badhai. aur isi bahaane guroodev ki rachna aur unhi ke dvaaraa sasvar paath...aanand ki aura kya paribhaashaa hogi??

    उत्तर देंहटाएं
  27. गौतम को जन्मदिन की ढेरों बधाईयाँ और शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  28. प्रवास पर रहने के कारण पिछले पॉंच दिन इंटरनैट से कटा रहा, अब मेल चैक करते-करते ज्ञात हुआ कि हर दिल अज़ीज़ मेजर साहब का जन्‍मदिन निकल गया, भविष्‍य के लिये नोट कर लिया है। अभी तो दिल से बहुत-बहुत बधाई। फिर मिलता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  29. दिनों बाद रोया हूँ...

    काश कि मेरा मौन सबकुछ कह पाता जो मुझपे बीत रही है आपकी इस पोस्ट को पढ़ने के बाद, गुरुदेव और आपकी आवाज के इस अप्रतिम उपहार को सुन लेने के बाद...!!!

    इतना स्नेह मैं नहीं संभाल पाऊँगा।

    उत्तर देंहटाएं
  30. "हर अच्छी चीज़ के ज़िक्र से हम में सकारात्मक ऊर्जा आती है..". एकदम सही सुबीर भैया!
    बहुत भाव-भीनी पोस्ट ...
    गौतम भैया, हम भी सुबीर भैया की आवाज़ में आवाज़ मिला के आपको आशीष दे रहे हैं, "जीवन का ये नया साल और आने वाले सभी साल बहुत सम्पूर्ण हों!"
    सुबीर भैया, बहुत ही प्यारा गीत है ... एक कर्मठ शिष्य को इससे सुन्दर आशीष भला कब मिली होगी!

    उत्तर देंहटाएं
  31. यायावर है आवारा है बंजारे है...आपनी किस्मत के हम तो खुद ही तारे है ...जुगनू है हम दीपक है हम उजियारे है....तेज समय की नदिया के बहते धारे है...हम पलाश के फूल नहीं है अंगारे है...हम सागर के बेटे है हम तो खारे है...
    गीत की यह पंक्तियाँ कितनी सटीक बैठती है..और आपकी आवाज दिल की गहराई से आरही है..जन्म दिन की इन शुभकामनाओं से बढ़कर और श्रेष्ठ शब्द क्या हो सकते है.
    गौतम भाई,
    आप भाग्यशाली है आपको देश कोने कोने से इतने लोग दिल से चाहते है.और गुरुदेव का इतना स्नेह आप के लिए है..शुभकानाए तो मेल कर चुका हूँ अब आपकी आयु और आपके यश कीर्ति और सुखी परिवार कुटुंब और स्नेही जनों पर मालिक की कृपा बनी रहे यह दुआ करता हूँ.
    एक बार फिर जन्म दिन की शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  32. मेरे गुणी पंकज भाई ,
    नमस्ते
    आपकी हर प्रस्तुति बदिया होतीं हैं -- आज
    वीर गौतम राजरिशी पर , लिखी भावुक कर्देनेवाली ये पोस्ट यादगार रही
    उन से वीर, " मेजर " हमारे भारत के गौरव पुरुष हैं - हम सभी के वे आदर के पात्र हैं
    उनके बारे में देख , पढ़ कर मन और नयन दोनों भर आते हैं .
    .बहुत बढ़िया लिखाआपने भी मेरे गुणी व कवि पंकज भाई आप के स स्वर पाठ से भी आप ने बहादुर
    शिशु - सखा के प्रति जो असीम व सात्विक स्नेहाशिष प्रकट है वह दीपका की तरह चमक रहा है सूरक को भी मात करता हुआ
    आशीर्वाद -- स्नेह , सब एक साथ ...
    बहोत ही सच्ची भावनाएं .उभरीं हैं ..
    मेरे आशीर्वाद आप दोनों के लिए तथा चैत्र नवरात्र में
    माँ भवानी रक्षा करें
    ये मंगल कामनाएं भेज रही हूँ
    गौतम भाई को
    साल गिरह पर अनेकों शुभाषिश
    जय हिंद !!
    बहुत स्नेह सहित
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं